शिव का अंश अश्वत्थामा आज भी है जिंदा!! इस मंदिर मे आता है शिव का पूजन करने!!

शिव का अंश अश्वत्थामा आज भी है जिंदा!! इस मंदिर मे आता है शिव का पूजन करने!!

भगवान शिव के भक्तों की सूची शायद सबसे लंबी है। देव हों या दानव, सब शिव के सामने शीश झुकाते हैं। भारत में भगवान शिव का एक मंदिर स्वयं भोलेनाथ के साथ ही उनके एक खास भक्त के कारण भी प्रसिद्ध है।मध्यप्रदेश के बुरहानपुर के पास असीरगढ़ नामक किले में भगवान शिव का यह मंदिर है। लोगों की मान्यता के अनुसार यहां भगवान शिव गुप्तेश्वर महादेव के रूप में पूजे जाते हैं। कहा जाता है कि यहां हर अमावस्या और पूर्णिमा को अश्वत्थामा भगवान शिव की पूजा करने आते हैं।

शिव का अंश अश्वत्थामा आज भी है जिंदा!! इस मंदिर मे आता है शिव का पूजन करने!!
शिव का अंश अश्वत्थामा आज भी है जिंदा!! इस मंदिर मे आता है शिव का पूजन करने!!

लोक मान्यताओं के अनुसार अश्वत्थामा सप्त चिरंजीवियों में से एक हैं।अश्वत्थामा को रुद्र के ग्यारवें अवतार में से एक माना जाता है। महाभारत युद्ध के समय कृष्णा ने अश्वत्थामा को 3000 साल के लिए कुष्ठ रोग का श्राप दया था, और वह इतना भयंकर था कि कोई चाह कर भी अश्वत्थामा की मदद नहीं कर सकता था। यही नहीं अश्वत्थामा का पूरा शरीर घाव से भर जाएगा, जिनसे खून और पस बहेगा और यह कभी ठीक नहीं होगा। हालांकि लोगों का यह मानना है कि किसी ने भी अश्वत्थामा को देखा नहीं लेकिन यहां सुबह पूजन स्थान पर गुलाब के फूल और कुमकुम के निशान मिलते हैं।

पुजारियों के मुताबिक भगवान भोलेनाथ को गुलाब और कुमकुम अश्वत्थामा ही चढ़ाते हैं। उनका यह भी मानना है कि मंदिर के पास जो तालाब है, वहां अश्वत्थामा स्नान करते हैं। स्नान के बाद ही वे भगवान शिव का पूजन करते है।मंदिर से जुड़ा रोचक तथ्य यह है कि अश्वत्थामा के आने व पूजन करने की मान्यता बहुत वर्षों से सुनी व कही जाती रही है लेकिन आज तक किसी ने उन्हें देखने का साहस नहीं किया।

इस संबंध में लोगों का कहना है कि अश्वत्थामा बहुत सवेरे ही यहां आते हैं और इतनी सुबह मंदिर तक पहुंचना बहुत कठिन है। दूसरी मान्यता ये है कि जो भी अश्वत्थामा को देख लेगा उसका मानसिक संतुलन बिगड़ सकता है, इसलिए कोई उसे देखने की कोशिश नहीं करता। यहां विशेष अवसरों पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं और भगवान भोलेनाथ को नमन करते हैं।