आज पढ़िए कहीं आपके ग्रह आपसे नाराज़ तो नहीं..!!मनाये उनको और पाए अपने जीवन में सुख..!!!

आज पढ़िए कहीं आपके ग्रह आपसे नाराज़ तो नहीं..!!मनाये

उनको और पाए अपने जीवन में सुख..!!!

कहीं आपके ग्रह आपसे नाराज़ तो नहीं
कहीं आपके ग्रह आपसे नाराज़ तो नहीं

अगर व्यक्ति के ग्रह सही होते है तो उसका जीवन सुखमय होता है,लेकिन अगर इंसान के गृह उससे नाराज़ हो गए तो उसकी ज़िन्दगी में उथल पुथल मच जाती है।आज हम आपको इसी सिलसिले में बता रहे है कैसे अपने नाराज़ ग्रहो को हम मना सकते है।

  • सूर्य ग्रहों का राजा है। इसलिए देवाधिदेव भगवान् विष्णु की अराधना से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं। सूर्य को जल देना,रविवार का व्रत करना तथा रविवार को केवल मीठा भोजन करने से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं। सूर्य का मंत्र है ऊँ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः ।
  • ग्रहों में चंद्रमा को स्त्री स्वरूप माना है। भगवान शिव ने चंद्रमा को मस्तक पर धारण किया है। चंद्रमा के देवता भगवान शिव हैं। सोमवार के दिन शिवलिंग पर जल चढ़ाएं व शिव चालीसा का पाठ करें। 16 सोमवार का व्रत करें तो चंद्रमा ग्रह द्वारा प्रदत्त कष्ट दूर होते हैं।  चंद्रमा के दान में दूध, चीनी, चावल, सफेद पुष्प, दही (सफेद वस्तुओं) का दान दिया जाता है तथा मंत्र जप भी कर सकते हैं। चन्द्रमा का मंत्र है ऊँ सों सोमाय नमः ।
  • ग्रहों में मंगल यदि अशुभ हो तो मंगलवार का व्रत करें, हनुमान चालीसा, सुंदरकांड का पाठ करें।  मंगल के दान में गुड़, तांबा, लाल चंदन, लाल फूल, फल एवं लाल वस्त्र का दान दें।मंगल का मंत्र है ऊँ अं अंगारकाय नमः ।
  • ग्रहों में बुध युवराज है। बुध यदि अशुभ स्थिति में हो तो हरा वस्त्र न पहनें तथा भूलकर भी तोता न पालें। अन्यथा स्वास्थ्य खराब रह सकता है। बुध संबंधी दान में हरी मूंग, हरे फल, हरी सब्जी, हरा कपड़ा दान-दक्षिणा सहित दें व बीज मंत्र का जप करें।बुध का मंत्र है ऊँ बुं बुधाय नमः गुरु :।

  • गुरु का अर्थ ही महान है- सर्वाधिक अनुशासन, ईमानदार एवं कर्त्तव्यनिष्ठ।  जिस जातक का गुरु निर्बल, वक्री, अस्त या पापी ग्रहों के साथ हो तो वह ब्रह्माजी की पूजा करें। केले के वृक्ष की पूजा एवं पीपल की पूजा करें। पीली वस्तुओं (बूंदी के लडडू, पीले वस्त्र, हल्दी, चने की दाल, पीले फल) आदि का दान दें। गुरु का मंत्र है ऊँ बृं बृहस्पतये नमः ।
  • शुक्र असुरों का गुरु, भोग-विलास, गृहस्थ एवं सुख का स्वामी है। शुक्र स्त्री जातक है तथा जन समाज का प्रतिनिधित्व करता है। जिन जातकों का शुक्र पीड़ित करता हो, उन्हें गाय को चारा, ज्वार खिलाना चाहिए एवं समाज सेवा करनी चाहिए। शुक्र का मंत्र है ऊँ शुं शुक्राय नमः ।
  • सूर्य पुत्र शनि, ग्रहों में न्यायाधीश है तथा न्याय सदैव कठोर ही होता है जिससे लोग शनि से भयभीत रहते हैं। शनि चाहे तो राजा को रंक तथा रंक को राजा बना देता है। शनि पीड़ा निवृत्ति हेतु महामृत्युंजय का जप, शिव आराधना करनी चाहिए। शनि के क्रोध से बचने के लिए काले उड़द, काले तिल, तेल एवं काले वस्त्र का दान दें। शनि का मंत्र है ऊँ सः शनैश्चराय नमः ।
  • राहु की राक्षसी प्रवृत्ति है। इसे ड्रेगन्स हैड भी कहते हैं। राहु के दान में कंबल, लोहा, काले फूल, नारियल, कोयला एवं खोटे सिक्के आते हैं। नारियल को बहते जल में बहा देने से राहु शांत हो जाता है। राहु की महादशा या अंतर्दशा में राहु के मंत्र का जप करते रहें। राहु का मंत्र है ऊँ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः
  • केतु राक्षसी मनोवृत्ति वाले राहु का निम्न भाग है। राहु शनि के साथ समानता रखता है एवं केतु मंगल के साथ। इसके आराध्य देव गणपति जी हैं। केतु के उपाय के लिए काले कुत्ते को शनिवार के दिन खाना खिलाना चाहिए। किसी मंदिर या धार्मिक स्थान में कंबल दान दें। केतु का मंत्र है ऊँ स्त्रां स्त्रीं स्त्रौं सः केतवे नमः ।

तो मनाले अपने ग्रह को और बनाये अपनी ज़िन्दगी को सुखमय ।