अधिकमास में यह काम करने से प्रसन्न होते हैं भगवान विष्णु, होगी हर इच्छा पूर्ण :

विष्णु भगवान को प्रसन्न करने का महीना अधिकमास का होता है। अधिकमास को विष्णु भगवान का विशेष वरदान प्राप्त है तथा भगवान विष्णु के नाम से ही अधिकमास को पुरूषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाता है। अधिकमास में अपनी हर मनोकमाना को पूर्ण करने के लिए विष्णु भगवान को प्रसन्न करना बहुत जरूरी है।

विष्णु भगवान की भक्ति कर उनका दिव्य आशीर्वाद प्राप्त करने का महीना अधिकमास 18 सितम्बर से शुरू हो चुका है। अधिकमास को मलमास और पुरूषोत्तम मास भी कहा जाता है। यह अधिकमास 16 अक्टूबर तक रहेगा। इस मास में विष्णु भगवान की पूजा करने का विशेष महत्व बताया गया है। ज्योतिषाचार्यो की मानें तो इस बार का मलमास 165 सालो बाद आया है। जिसमें दुर्लभ संयोग बने है। यह दुर्लभ योग यह है कि इस बार अधिकमास के बाद नवरात्रि आरही है। अधिकमास इसलिए भी आता है कि चंद्र तथा सूर्य के परिवर्तन से वर्ष में 11 दिनों का अंतर आ जाता है और उसी अंतर को समाप्त करने के लिये अधिक मास आता है। इस मास में विष्णु भगवान की जितनी भक्ति कि जाए उतनी कम है। ऐसी मान्यता है कि इस मास में भगवान विष्णु की पूजा करने से वे अनेक प्रकार के लाभ देते हैं। आज हम आपको इस मास में विष्णु भगवान की पूजा कर उन्हें किस प्रकार प्रसन्न किया जाए यह बताने जा रहे हैं।

इस शंख से करें विष्णु भगवान का अभिषेक-

विष्णु भगवान ने पृथ्वी पर कई रूप में जन्म लिया है तथा बुराई को खत्म किया है। अधिकमास में की गई विष्णु भगवान की पूजा से अनेक प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं। विष्णु भगवान को प्रसन्न करने के लिए अधिकमास में प्रतिदिन मंदिर जाना चाहिए तथा इस मास में दक्षिणावर्ती शंख में साफ पानी भरकर उससे भगवान विष्णु का अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से विष्णु भगवान बहुत ही जल्दी प्रसन्न होते हैं। साथ ही अधिकमास में विष्णु भगवान को खीर, पीले फल या पीले रंग की मिठाई का भोग लगाना चाहिए। क्योंकि पुरूषोत्तम मास में विष्णु भगवान को यह बहुत पसंद है। मलमास में अगर आप धन लाभ चाहते हैं तो विष्णु भगवान के साथ ही माता लक्ष्मी की भी पूजा करना चाहिए। इससे आपको धन लाभ मिलेगा तथा अटका हुआ धन की आने लगेगा।

पीपल के पेड़ पर अर्पित करे मीठा जल-

विष्णु भगवान को प्रसन्न करने का महीना अधिकमास का होता है। अधिकमास को विष्णु भगवान का विशेष वरदान प्राप्त है तथा भगवान विष्णु के नाम से ही अधिकमास को पुरूषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाता है। अधिकमास में अपनी हर मनोकमाना को पूर्ण करने के लिए विष्णु भगवान को प्रसन्न करना बहुत जरूरी है। मलमास में रोज शाम को तुलसी के सामने गाय के शुद्ध घी का दीपक लगाना चाहिए तथा तुलसी के पौधे को प्रतिदिन सुबह एवं शाम को प्रणाम करना चाहिए। पौराणिक कथाओं के मुताबिक भगवान विष्णु का वास पीपल के पेड़ में माना गया है। इसलिए मलमास में पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए इसके साथ ही अधिकमास में प्रतिदिन पीपल के पेड़ में पर मीठा जल चढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से विष्णु भगवान बहुत ही जल्द प्रसन्न होते हैं। साथ ही अगर आप अपनी मनचाही मनोकामना भगवान विष्णु से पूर्ण करवाना चाहते हैं तो मलमास में गाय का कच्चा दूध यानी कि बिना उबाले हुए दूध में केसर मिलाकर भगवान विष्णु का अभिषेक करें। इससे आपकी मन इच्छा विष्णु भगवान बहुत ही जल्द पूरी करते हैं।

मंदिर में करें अन्न का दान-

ऐसा कहा जाता है कि एक समय अधिकमास को मलमास कहे जाने से वह बहुत ही नाराज हो गए। अपना दुख लेकर अधिकमास विष्णु भगवान की शरण में पहुंचे और उन्हें अपना दुखड़ा बताया।विष्णु भगवान ने अधिकमास की इस चिंता को सुनकर उसका समाधान करते हुए कहा कि अधिकमास को अब पुरूषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाएगा तथा जो भी व्यक्ति अधिकमास में मेरी भक्ति करेगा उसे तत्काल फल की प्राप्ति होगी। साथ ही विष्णु भगवान ने यह भी कहा कि कलयुग में मलमास में मेरी भक्ति करने से अनेक तरह के पापों से मुक्ति मिलेगी। जिसके बाद से ही मलमास को काफी अहम माना जाता है। इसलिए मलमास में जितना दान व धर्म किया जाए उतना कम है। इसलिए विष्णु भगवान को प्रसन्न करने के लिए मलमास में मंदिर जाकर अपनी कमाई के कुछ हिस्से का अन्न दान करना चाहिए। या फिर मंदिर में आप अपनी यथाशक्ति के अनुरूप में अन्न का दान कर सकते हैं।