जानिए भगवान को क्यों लगाए जाते है 56 भोग, क्या है इसके पीछे का रहस्य..!!!

जानिए भगवान को क्यों लगाए जाते है 56 भोग, क्या है इसके पीछे का रहस्य..!!!

56 प्रकार के व्यंजन परोसे गए
56 प्रकार के व्यंजन परोसे गए

ये तो आप जानते ही होंगे कि भगवान को लगाए जाने वाले भोग की बड़ी ही महिमा होती है । इनके लिए 56 प्रकार के व्यंजन परोसे जाते हैं, जिसे छप्पन भोग कहा जाता है । आज हम बता रहें है भगवान को अर्पित किए जाने वाले छप्पन भोग के पीछे का रहस्य क्या है । तो आइये जानते है:

ऐसा कहा जाता है कि मैया यशोदा कान्हा को एक दिन में अष्ट पहर भोजन कराती थी,अर्थात् कृष्ण आठ बार भोजन करते थे। जब इंद्र के प्रकोप से सारे

व्रज को बचाने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को उठाया था, तब लगातार सात दिन तक भगवान ने अन्न जल ग्रहण नहीं किया। आठवे दिन जब भगवान ने देखा कि अब इंद्र की वर्षा बंद हो गई है तो उन्होंने सभी व्रजवासियो को गोवर्धन पर्वत से बाहर निकल जाने को कहा। तब दिन में आठ प्रहर भोजन करने वाले व्रज के नंदलाल कन्हैया का लगातार सात दिन तक भूखा रहना उनके व्रज वासियों और मैया यशोदा के लिए बड़ा कष्टप्रद

हुआ। भगवान के प्रति अपनी अन्न्य श्रद्धा भक्ति दिखाते हुए सभी व्रजवासियो सहित यशोदा जी ने सात दिन और अष्ट पहर के हिसाब से                    7 x 8 = 56 व्यंजनो का भोग बाल कृष्ण को लगाया।

बस यही प्रथा चली आ रही है ।

॥जय श्री कृष्णा ॥

Loading...