अद्भुत होगा जानना महाभारत में कौन था किसका अवतार; जरूर पढ़ें..!!!

भारतीय पौराणिक कथा (Indian Mythological Story)

यह बात तो आप जानते ही हैं कि ईश्वर समय-समय पर अवतार लेते आ रहे हैं।

इसलिए आज हम आपको बता रहें है महाभारत में कौन था किसका अवतार।

आइये जानते है:

महाभारत में कौन था किसका अवतार
महाभारत में कौन था किसका अवतार

आपको बता दें महाभारत (Mahabharat) की कहानी में लगभग सभी देवता, गंधर्व, यक्ष, रुद्र, वसु अप्सरा और ऋषियों के अंशावतार थे।

श्रीकृष्ण

कृष्ण (Krishna) स्वयं भगवान विष्णु (Vishnu) के 22 वे अवतार थे।

द्वापरयुग में भगवान विष्णु (Vishnu) ने श्रीकृष्ण अवतार लेकर अधर्मियों का नाश किया।

भगवान श्रीकृष्ण (Krishna) का जन्म कारागार में हुआ था।

इनके पिता का नाम वसुदेव और माता का नाम देवकी था।

कंस का वध भी भगवान श्रीकृष्ण (Krishna) ने ही किया।

इतना ही नहीं बल्कि महाभारत (Mahabharat)के युद्ध में श्रीकृष्ण (Krishna) अर्जुन के सारथि बने और दुनिया को गीता का ज्ञान भी दिया।

महाभारत में कौन था किसका अवतार
महाभारत में कौन था किसका अवतार

महाभारत में कौन था किसका अवतार

गुरु द्रोणाचार्य

कौरवों (Kaurav) और पांडवों (Pandav) के गुरु रहे द्रोणाचार्य के बारे में कहा जाता है की वे अत्यंत शक्तिशाली और पराक्रमी योद्धा थे। ऐसा माना जाता है देवताओं के गुरु बृहस्पति देव ने ही द्रोणाचार्य के रूप में जन्म लिया था।

अर्जुन

धनुर विद्या में निपुण अर्जुन को पांडु पुत्र थे, लेकिन असल में वे इन्द्र और कुंती के पुत्र थे। अर्जुन को इन्द्र (Indra) का अंश ही माना जाता है।

बलराम

महाबली बलराम के विषय में माना गया है कि वे विष्णु (Vishnu)  के आसन बने शेषनाग (Sheshnaag) के अंश के रूप में जन्मे थे। जब कंस ने देवकी के 6 पुत्रों की हत्या की, उसी दौरान देवकी के गर्भ में बलराम का जन्म हुआ था।  महाभारत (Mahabharat) के युद्ध के दौरान बलराम किसी के पक्ष में नहीं थे और तटस्थ होकर तीर्थयात्रा पर चले गए।

दुर्योधन

धृतराष्ट्र और गांधारी के सौ पुत्रों में सबसे बड़े पुत्र दुर्योधन का वास्तविक नाम सुयोधन था। माना जाता है दुर्योधन और उसके भाई पुलस्त्य वंश के राक्षसों के अंश थे।

महाभारत में कौन था किसका अवतार
महाभारत में कौन था किसका अवतार

हिंदी धार्मिक कहानियाँ(Religious Stories in Hindi )

 कर्ण

कुंती ने विवाह पूर्व कर्ण को जन्म दिया था।

उन्हें सूर्यपुत्र कर्ण भी कहा जाता है, क्योंकि कर्ण (Karan) का जन्म सूर्यदेव के आशीर्वाद से हुआ था।

भीष्म

श्रीकृष्ण (Krishna) के बाद अगर महाभारत (Mahabharat) का कोई सबसे प्रमुख और चर्चित पात्र रहा तो वो हैं “भीष्म” पितामाह।

पांच वसुओं में से एक ‘द्यु’ नामक वसु ने देवव्रत के रूप में जन्म लिया था।

अश्वत्थामा

अश्वत्थामा, गुरु द्रोण के पुत्र थे। जिन्होंने महाकाल, यम, क्रोध, काल के अंशों के रूप में जन्म लिया था।

विदुर

वेद व्यास के पुत्र और धृतराष्ट्र के सलाहकार रहे विदुर को सूर्य का अंश माना गया है।

महाभारत में कौन था किसका अवतार
महाभारत में कौन था किसका अवतार

द्रौपदी

महाभारत (Mahabharat) की सबसे जरूरी और शायद सबसे शक्तिशाली स्त्री पात्र रहीं द्रौपदी का जन्म इन्द्राणी के अवतार के रूप में हुआ था।

रुक्मिणी

राजा भीषक की पुत्री और भगवान कृष्ण (Krishna) की पत्नी रुक्मिणी (Rukmani) को माता लक्ष्मी (Lakshmi) का ही अवतार माना जाता है।

 

परम पिता परमेश्वर आप सभी पर अपनी कृपा बनाए रखें ।

॥ जय श्री कृष्ण ॥