जानिए कौन-सी भगवान शिव की मूर्ति के पूजन से मिलता हैं क्या फल…!!!

भगवान शिव से जुड़ी कथा (Stories of Lord Shiv)

हमारे सनातन धर्म में भगवान शिव शंकर (Shiv Shankar) भोलेनाथ (Bholenath) की पूजा शिवलिंग के रूप में की जाती है

लेकिन हम आपको बता दें भगवान शिव की मूर्ति पूजन का भी अपना ही एक अलग महत्व होता है।

दरअसल श्री लिंग महापुराण में भगवान शिव की विभिन्न मूर्तियों के पूजन के बार में बताया गया है।

भगवान शिव की मूर्ति
भगवान शिव की मूर्ति

आइये जानते है विस्तार में:

  • भगवान कार्तिकेय के साथ भगवान शिव (Shiv) पार्वती (Parwati) की मूर्ति की पूजा करने से मनुष्य की सभी कामनाएं पूरी हो जाती हैं।

  • जिस मूर्ति में भगवान शिव (Shiv) एक पैर, चार हाथ और तीन नेत्रों वाले और हाथ में त्रिशूल लिए हुए हों।

जिनके उत्तर दिशा की ओर भगवान विष्णु (Vishnu) और दक्षिण दिशा की ओर भगवान ब्रह्मा (Brahma) की मूर्ति

ऐसी प्रतिमा की पूजा करने से मनुष्य सभी बीमारियों से मुक्त रहता है ।

  • भगवान शिव (Shiv) की मूर्ति जिसमें भगवान शिव अग्निस्वरूप में हों,

ऐसी मूर्ति की पूजा-अर्चना करने से मनुष्य को अन्न की प्राप्ति होती है।

भगवान शिव की मूर्ति
भगवान शिव की मूर्ति
  • माता पार्वती और भगवान शिव (Shiv) की बैल पर बैठी हुई मूर्ति की पूजा करने से, व्यक्ति की संतान पाने की इच्छा पूरी होती है।
  • भगवान शिव (Shiv) की अर्द्धनारीश्वर मूर्ति की पूजा करने से

अच्छी पत्नी और सुखी वैवाहिक जीवन की प्राप्ति होती है।

भगवान शिव की मूर्ति

  • भगवान शिव (Shiv) की उपदेश देने वाली स्थिति में बैठे हुए मूर्ति की पूजा करने से,

विद्या और ज्ञान की प्राप्ति होती है।

  • नन्दी और माता पार्वती के साथ सभी गणों से घिरे हुए भगवान शिव (Shiv) की मूर्ति की पूजा करने से

मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।

भगवान शिव की मूर्ति
भगवान शिव की मूर्ति
  • भगवान शिव (Shiv) की सफेद रंग की चार हाथों और तीन नेत्रों वाली, गले में सांप और हाथ में कपाल धारण किए हुए मूर्ति, की पूजा करने से

धन-संपत्ति की प्राप्ति होती है।

  • ध्यान की स्थिति में बैठे हुए, शरीर पर भस्म लगाए हुए भगवान शिव (Shiv) की मूर्ति की पूजा करने से

मनुष्य के सभी दोषों का नाश होता है।

जटा में गंगा और सिर पर चंद्रमा को धारण किए हुए,

बाएं ओर माता पार्वती (Parwati )को बैठाए हुए और पुत्र कार्तिकेय (Kartikey) और गणेश (Ganesh) के साथ

स्थित भगवान शिव (Shiv) की ऐसी मूर्ति की  पूजा करने से घर-परिवार के झगड़े खत्म होते है ।

भगवान शिव की मूर्ति
भगवान शिव की मूर्ति
  • हाथ में धनुष-बाण लिए हुए, रथ पर बैठे हुए भगवान शिव (Shiv)  की पूजा करने से मनुष्य को जाने-अनजाने किए गए पापों से मुक्ति मिलती है।

 

परम पिता परमेश्वर आप सभी पर अपनी कृपा बनाए रखें ।

॥ जय महाकाल ॥

Next post