द्रौपदी किस पाण्डव की पत्नी थी और उसके पाँच पुत्र किसी एक के थे या उसके अतिरिक्त?

भारतीय इतिहास को विदेशी वा अपने ही स्वार्थी देशी लोगों ने बहुत कुछ बिगाड़ा है। वर्तमान की संतति अपने इतिहास से प्रेरणा लिया करती है, अपने इतिहास पुरुषों को अपना आदर्श माना करती है। उनके आदर्शों को अपने जीवन में धारण कर उन इतिहास पुरुषों की भाँति अपने जीवन को सफल बना लेती है। किसी भी देश का इतिहास उस देश की अमूल्य धरोहर के रूप में उस देश की संस्कृति होती है। हमारे देश का इतिहास समपूर्ण विश्व में सर्वाधिक गौरवशाली रहा है। हमारे इस गौरव को सहन न करने के कारण विदेशी लोगों ने विशेषकर अंग्रेजों ने हम भारतीयों को नीचा दिखाने के लिए और अपनी प्रभुसत्ता बनाए रखने के लिए हमारे इतिहास को विकृत कर दिया। इतिहास प्रदूषण का कार्य केवल अंग्रेज वा अंग्रेज भक्तों ने ही नहीं किया, अपितु स्वार्थी विषय लोलुप, धनलोलुप तथा-कथित विप्रवर्ग ने भी किया। आज हम किसी भी प्राचीन शास्त्र को उठाकर देखते हैं

तो कहीं न कहीं उन शास्त्रों में वेदविरुद्ध बातों का प्रक्षेप मिल ही जाता है। आज ‘मनुस्मृति’ जैसे मानव संविधान के ऊपर एक वर्ग विशेष अपना रोष प्रकट क्यों कर रहा है, क्योंकि इस ग्रन्थ में स्वार्थी अंग्रेज भक्तों ने मिलावट कर रखी है। उस मिलावट के कारण वह वर्ग विशेष मनु को अपना विरोधी मानता है। यथार्थता तो यह है कि यदि यह वर्ग विशेष पक्षपात रहित होकर इस ग्रन्थ को पढ़े तो उनको यह ग्रन्थ व्यक्तिगत व सामाजिक व्यवस्था और उन्नति का सर्वोत्तम ग्रन्थ दिखेगा। सबसे अधिक प्रदूषण (मिलावट) महाभारत में हुआ लगता है। उस विषय में महर्षि दयानन्द ने लिखा-‘‘यह बात राजा भोज के बनाये संजीवनी नामक इतिहास में लिखी है………. उसमें स्पष्ट लिखा है कि व्यासजी ने चार सहस्र चार सौ, और उनके शिष्यों ने पाँच सहस्र छः सौ श्लोकयुक्त अर्थात् मात्र दस सहस्र श्लोकों के प्रमाण का ‘भारत’ बनाया था। वह महाराजा विक्रमादित्य के समय में बीस सहस्र, महाराजा भोज कहते हैं कि मेरे पिताजी के समय में पच्चीस और अब मेरी आधी उमर में तीस सहस्र श्लोकयुक्त ‘महाभारत’ की पुस्तक मिलती है। जो ऐसे ही बढ़ता चला गया तो ‘महाभारत’ की पुस्तक एक ऊँट का बोझा हो जायेगा।’’ सं. प्र. 11 वर्तमान में महाभारत लगभग एक लाख श्लोक युक्त मिलता है अर्थात् लगभग नव्वे हजार श्लोकों की मिलावट। इतनी मिलावट होने पर वास्तविक तथ्यों को निकालना कठिन हो जाता है। आपने जो द्रौपदी के विषय में पूछा है हम यहाँ महाभारत के ही साक्ष्य देते हुए लिख रहे हैं कि द्रौपदी पाँच पतियों वाली नहीं थी, द्रौपदी एक पति की पत्नी थी। महाभारत के आदि पर्व के 32 वें अध्याय में लिखा है

– तमब्रवीत् ततो राजा धर्मात्मा च युधिष्ठिर। ममापि दारसबन्धः कार्यस्तावद् विशापते।।

– 1.32.49 तब धर्मात्मा राजा युधिष्ठिर ने उनसे कहा- राजन्! विवाह तो मेरा भी करना होगा।

भवान् वा विधिवत् पाणिं गृह्णातु दुहितुर्मम। यस्य वा मन्यसे वार तस्य कृष्णामुपादिश।।

– 1.32.50 अर्थात् द्रुपद बोले- हे वीर! तब आप ही विधि पूर्वक मेरी पुत्री का पाणिग्रहण करें अथवा आप अपने भाइयों में से जिसके साथ चाहे, उसी के साथ कृष्णा को विवाह की आज्ञा दे दें।

ततः समाधाय स वेदपारगो जुहाव मन्त्रैर्ज्वलितं हुताशनम्। युधिष्ठिरं चाप्युषनीय मन्त्रविद्नियोजयामास सहैव कृष्णया।।

– 1.32.51 वैशपायनजी कहते हैं- द्रुपद के ऐसा कहने पर वेद के पारंगत विद्वान् मन्त्रज्ञ पुरोहित धौय ने वेदी पर प्रज्वलित अग्नि की स्थापना करके उसमें मन्त्रों द्वारा आहुति दी और युधिष्ठिर को बुलाकर कृष्णा के साथ उनका गठबन्धन कर दिया।

प्रदक्षिणं तौ प्रगृहीतपाणिकौ समातयामास स वेदपारगः। ततोऽयनुज्ञाय तमाजिशोभिनं पुरोहितो राजगृहाद् विनिर्ययौ।।

– 1.32.52 वेदों के पारंगत विद्वान् पुरोहित ने उन दोनों का पाणिग्रहण कराकर उनसे अग्नि की प्रदक्षिणा करवाई, फिर (अन्य शास्त्रोक्त विधियों का अनुष्ठान कराके) उनका विवाह कार्य सपन्न कर दिया। तत्पश्चात् संग्राम में शोभा पाने वाले युधिष्ठिर को अवकाश देकर पुरोहित जी भी उस राजभवन से बाहर चले गये। महाभारत के इस पूरे प्रकरण से ज्ञात हो रहा है कि द्रौपदी का पाणिग्रहण अर्थात् विवाह संस्कार केवल युधिष्ठिर के साथ हुआ था। अर्थात् द्रौपदी का पति युधिष्ठिर ही थे न कि पाँचों पाँडव। स्वामी जगदीश्वरानन्द जी ने आदि पर्व के इक्कतीसवें अध्याय के श्लोक 34-35 के अर्थ करने पर टिप्पणी की है- ‘‘जो लोग द्रौपदी के पाँच पति मानते हैं वे इस स्थल को ध्यानपूर्वक पढ़ें। यहाँ माता चिन्तित हो रही है कि मेरे पुत्र अभी तक क्यों नहीं लौटे? उन्हें पहचान तो नहीं लिया गया है?’’ इसके अतिरिक्त एकचक्रा नगरी में ब्राह्मण से द्रौपदी के स्वयंवर की बात सुनकर जब पाँचों पाण्डव उद्विग्न से हो गये थे, तब माता ने स्वयं ही वहाँ जाने का प्रस्ताव रखा था। मार्ग में व्यास जी ने भी पांचाल नगर में जाने की सममति दी थी। स्वयं माता को यह पता है कि मेरे पुत्र स्वयंवर में गये हैं। स्वयंवर की शर्त पूर्ण होते ही युधिष्ठिर, नकुल और सहदेव माता को सूचना देने के लिए तुरन्त घर आ गये हैं। (यह बात महा. 1.30.36 में स्पष्ट कही गई है) भीम और अर्जुन द्रौपदी को लेकर अनेक ब्राह्मणों के साथ घर पर आये हैं। इन सब प्रसङ्गों के ध्यानपूर्वक अवलोकन से यह स्पष्ट है कि न तो पाण्डवों ने यह कहा था कि हम भिक्षा लाये हैं और न कु न्ती ने यहा कहा कि पाँचों बाँट लो। द्रौपदी को पाँचों की पत्नी बनाने वाला सारा प्रकरण महाभारत में पीछे से मिलाया गया है । द्रौपदी पाँचों पाण्डवों की पत्नी नहीं थी। यद्यपि स्वयंवर की शर्त अर्जुन ने पूर्ण की थी, परन्तु द्रौपदी का विवाह युधिष्ठिर के साथ हुआ था। वह युधिष्ठिर और केवल युधिष्ठिर की पत्नी थी।’’ इस सब मिलावट से प्रतीत हो रहा है कि जो कौम अपने महापुरुषों को लांछित करने में लगी हो, वह कैसे बच पायेगी? श्री कृष्ण, महादेव, विष्णु आदि के चरित्र को कितना गिरा हुआ पुराण आदि ग्रन्थों में दिखाया गया है। ये सब महापुरुष उत्तम चरित्र वाले थे, किन्तु इन उत्तम चरित्र वाले महान् पुरुषों को भी बदनाम करने में कल्पित कथाकारों ने कमी नहीं छोड़ी। ऐसे माता द्रौपदी को भी पाँच पतियों वाली कहकर बदनाम ही किया है। यह इतना सारा लिखने का प्रयोजन यही है कि हम अपने शास्त्रों, इतिहास ग्रन्थों से मिलावट को दूर कर दें और अपने महापुरुषों पर लगाये हुए लांछनों को हटा दें तो कोई भी विधर्मी अपनी धर्म पर गर्वोक्ति नहीं कर सकता है और न ही इस हिन्दू कौम को नीचा दिखा सकता। आपने जो द्रौपदी के पाँच पुत्रों के विषय में पूछा है कि वे किसके थे? इसका स्पष्ट वर्णन तो हमें महाभारत में प्राप्त नहीं हुआ मिलावट युक्त में तो अवश्य पाँचों पुत्रों को एक-एक पाण्डव का कहा है, किन्तु युक्ति से तो यही स्पष्ट हो रहा है वे पुत्र युधिष्ठिर के ही होंगे, क्योंकि द्रौपदी युधिष्ठिर की ही पत्नी थी।