जानिए कोनसे हे साईं के वो ११ वचन जिनसे आप अभी तक हे अनजान…

भारत में लोगो को भगवान पर अटूट विश्वास हे जिसके चलते सभी भक्त भगवान की आस्था और भक्ति में लीन रहते | वेसे ही भारत में योगियों और गुरुओ को भी माना’ जाता हे| योगियों और गुरुओ में यदि सबसे पहले किसी का नाम आता हे तो वो हे साईं बाबा| साईं बाबा का सबसे प्राचीन मंदिर शिर्डी में हे| साईं बाबा के भक्तो की कमी नही हे और शिर्डी में साईं बाबा के मंदिर में दर्शन हेतु लम्बी लम्बी कतारे लगती हे| साईं बाबा के सच्चे भक्त बाबा के दर्शन हेतु लम्बी कतारों में घंटो खड़े रहते हे |

साईं बाबा का चित्र

ऐसा कहा जाता हे की जो भी साईं की शरण में सच्चे दिल से जाता हे, वो कभी भी खाली हाथ नही आता| साईं बाबा भी कहा करते थे की जो भक्त जिस भाव से मेरी प्रार्थना करेगा, वेसा ही भाव मेरे मन का उसके प्रति होगा| साईं बाबा ने अपनी सारी उम्र मानव सेवा और मानव कल्याण का ही सन्देश दिया हे| उन्हें अपने मान अपमान की कभी चिंता नहीं सताती थी| वे साधारण मनुष्यों के साथ मिलकर रहते थे, न्रत्य देखते, गजल व कवाली सुनते हुए अपना सिर हिलाकर उनकी प्रशंसा भी करते| इतना सब कुछ होते हुए भी उनकी समाधि भंग न होती| जब दुनिया जागती थी तब वह सोते थे, जब दुनिया सोती थी तब वह जागते थे| बाबा ने स्वयं को कभी भगवान नहीं माना| वह प्रत्येक चमत्कार को भगवान का वरदान मानते| सुख – दुःख उनपर कोई प्रभाव न डालते थे| संतो का कार्य करने का ढंग अलग ही होता है| कहने को साईं बाबा एक जगह निवास करते थे पर उन्हें विश्व एक समस्त व्यवहारों व व्यापारों का पूर्ण ज्ञान था|

साईं बाबा के चित्र

साईं बाबा के ११ वचन जिनसे आप हे अनजान –

१. जो शिरडी में आएगा| आपद दूर भगाएगा|

. चढ़े समाधि की सीढ़ी पर| पैर तले दुःख की पीढ़ी कर|

. त्याग शरीर चला जाऊँगा| भक्त हेतु दौड़ा आऊँगा|

४. मन में रखना दृढ़ विश्वास| करे समाधि पूरी आस|

५. मुझे सदा जीवित ही जानो| अनुभव करो सत्य पहचानो|

६. मेरी शरण आ खाली जाये| हो तो कोई मुझे बताये|

७. जैसा भाव रहा जिस जन का| वैसा रूप हुआ मेरे मन का|

८. भार तुम्हारा मुझ पर होगा| वचन न मेरा झूठा होगा|

९. आ सहायता लो भरपूर| जो माँगा व नहीं है दूर|

१०. मुझमें लीन वचन मन काया| उसका ऋण न कभी चुकाया|

११. धन्य धन्य व भक्त अनन्य| मेरी शरण तज जिसे न अन्य|

साईं बाबा के चित्र –

साईं बाबा का चित्र ०१
साईं बाबा का चित्र ०२
साईं बाबा का चित्र ०३
साईं बाबा का चित्र ०४
साईं बाबा का चित्र ०५
साईं बाबा का चित्र ०६

CREDIT – VINISH JAIN

Loading...