Latest

देश का इकलौता शिव मंदिर! जहां बिना गणराज के विराजित हैं भोलेनाथ :

भगवान शिवजी ने किया था यहां पर निवास… मंदिरों से जुड़ी कई कथाओं और चमत्कारों के बारे में देखा व सुना ही होगा। वहीं आपने जो भी शिवमंदिर
Read More

जब इंद्रदेव ने मां लक्ष्मी से पूछा, कुछ लोग अमीर तो कुछ गरीब क्यों रहते हैं ?

हर व्यक्ति चाहता है कि वह धन-धान्य से परिपूर्ण हो। उसके यहां किसी भी प्रकार का कोई अभाव न रहे। लेकिन कुछ लोगों पर माता लक्ष्मी की कृपा
Read More

जानिए भगवान शिव के हर मंदिर में क्यो विराजमान है नंदी महाराज :

जहां भी भगवान शिव की पूजा होती है या जहां भी शिव भगवान की महिमा की बात होती है वहां नंदी का ज़िक्र भी आता ही है। अकसर
Read More

नवरात्रि 2020 : जानिए मां अंबे के 9 रूपों के 9 शुभ वरदान !!

मां अंबे, मां दुर्गा, मां भगवती…चाहे नाम कोई भी हो इन 9 दिनों में वह भरपूर आशीष हमे देती है। 9 दिनों की 9 देवियां विशेष आशीर्वाद के
Read More

नवरात्रि 2020 : कोरोना काल में नवरात्रि पर स्वयं कैसे करें हवन , जानिए हवन सामग्री !!

घरों में नवरात्रि पर पूजा के बाद हवन भी किया जाता है। हवन तो विधिवत रूप से पंडितजी ही करवाते हैं, परंतु कोरोना काल में आप खुद ही
Read More

शारदीय नवरात्रि पूजन : जानिए कैसे करें आराधना, पढ़ें सरल विधि !!

शारदीय नवरात्रि पूजन : जानिए कैसे करें आराधना, पढ़ें सरल विधि आइए जानते नवरात्रि में पूजन कैसे करना चाहिए और इसके क्या नियम हैं?  ◆आश्विन शुक्ल प्रतिपदा को
Read More

क्या आप जानते हैं नदी में सिक्के क्यों फेंके जाते हैं, जानिए 10 हिन्दू परंपराएं:

नदी में सिक्के डालने की परंपरा सदियो से चली आ रही है। आखिर हम नदी में सिक्का क्यों डालते हैं? इस रिवाज के पीछे एक बड़ी वजह क्या
Read More

शीतला माता का सबसे प्राचीन मंदिर, जहां जाने से होती है सभी मनोकामना पूर्ण :

शीतला माता की पूजा शीतला सप्तमि तथा शीतला अष्टमी पर की जाती है। शीतला माता के यूं तो कई प्रचीन मंदिर है जैसे राजस्थान के पाली जिले में,
Read More

जानिए पुष्य नक्षत्र से जुड़ी 10 खास बातें :

पुष्य नक्षत्र बहुत ही शुभ माना जाता है। 10 व 11 अक्टूबर 2020 को  पुष्य नक्षत्र आ रहा है,इसे खरीदारी का महामुहूर्त भी कहते हैं। आज हम आपको
Read More

कल है अधिक मास की आखिरी एकादशी व्रत, जानें शुभ मुहूर्त, व्रत विधि, पूजा विधि और कथा…

अधिक मास चल रहा है|अधिकम मास की एकादशी का विशेष महत्व है |अधिक मास की आखिरी एकादशी परम एकादशी नाम से जानी जाती है|पंचांग के मुताबिक 13 अक्टूबर
Read More