कोकिला व्रत रखने का विधान आषाढ़ मॉस की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी से लेकर सावन मॉस की पूर्णिमा तक है। इस व्रत में माँ भगवती की कोयल रूप