सूर्यग्रहण 21 जून ,2020 :सामान्य जन और गर्भवती महिलाए रखे इन बातो का विशेष ध्यान

ग्रहण शब्द पर गोर करे तो इसमें ही नकारत्मकता झलकती है । इस शब्द के सुनते से ही ऐसा लगता है मानो संकट आ गया होगा या कुछ अनिष्ट होने वाला हो । ग्रहण का एक ओर वैज्ञानिक महत्व है तो दूसरी और ज्योतिश्चर्यो के अनुसार यह एक आध्यात्मिक घटना भी है जिसका मनुष्यो पर गहरा प्रभाव पड़ता है । सूर्य ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचने एवं जीवन को समृद्ध बनाने में अपनी कुंडली के अनुसार ज्योतिषो से उपाय भी पूछ सकते है । आईए आप को इस ग्रहण में रखने वाली सावधानीयो के बार में बताते है साथ ही आपको ग्रहण का समय समय भी बताते है ।

◆सूर्यग्रहण का समय:
प्रारम्भ समय : प्रातः 9 बजकर 16 मिनट
समाप्ति समय : दोपहर 3 बजकर 4 मिनट

◆सूर्यग्रहण पर रखने वाली सावधानिया :
सूर्यग्रहण के दौरान भोजन , पानी ना करे । ग्रहण के वक्त अपना समय ज़्यादातर पूजा , आरधना , जाप में व्यतीत करे। इस समय नवग्रहों को दान करना अधिक लाभकारी रहेगा । विद्यार्थी अच्छा परिणाम पाने के लिए ग्रहण काल मे अपनी पढ़ाई शुरू ना करे । अगर ग्रहण के पूर्व पढ़ाई करना प्रारम्भ कर देंगे तो वह ज़्यादा लाभदायक रहेगा । ग्रहण के दौरान पूजास्थल को भी ढक कर रखे । ग्रहण समाप्त होने के बाद पूजास्थलों को साफ करे और गंगाजल का छिड़काव करें।

◆गर्भवती महिलाएं विशेष रखे इन बातों का ध्यान :

सूर्यग्रहण के दौरन गर्भवती महिलाएं घर से बाहर ना निकले। गर्भवती महिलाओ को ग्रहण देखने की मनाही होती है । माहग्रहण के समय गर्भवती महिलाओ कोशिश करे कि सोए नही। इस समय अपने आराध्य का ध्यान करे या अपने मनपसंद काम करे । ग्रहण के दौरान कोई भी नुखिली चीज़ का इस्तमाल ना करे जैसे चाकू , कैची , सुई आदि । ग्रहण के समय बना हुआ खाना नही खाए ।