जरूर पढ़ें..!! श्राद्ध में सबसे पहला भाग अग्नि को क्यों दिया जाता है..!!!

श्राद्ध में सबसे पहला भाग अग्नि को दिया जाता है
श्राद्ध में सबसे पहला भाग अग्नि को दिया जाता है

श्राद्ध पक्ष के बारे में कहा जाता है की सबसे पहले श्राद्ध का उपदेश महर्षि निमि को महातपस्वी अत्रि मुनि ने दिया था। क्या आप जानते है श्राद्ध में सबसे पहले अग्नि का भाग क्यों दिया जाता है,आइये आज जानते है ऐसा क्यों किया जाता है ।

सबसे पहले निमि ने श्राद्ध का आरंभ किया और पितरों को भोजन कराया,ऐसे में लगातार श्राद्ध का भोजन करते-करते देवता और पितर पूर्ण तृप्त हो

गए।लेकिन लगातार श्राद्ध का भोजन करने से पितरों को अजीर्ण (भोजन न पचना) रोग हो गया और इससे उन्हें कष्ट होने लगा।इसका समाधान पाने के लिए वे सभी ब्रह्माजी के पास गए और उनसे कहा कि- श्राद्ध का अन्न खाते-खाते हमें अजीर्ण रोग हो गया है, इससे हमें कष्ट हो रहा है, आप हमारा कल्याण कीजिए।

देवताओं की बात सुनकर ब्रह्माजी बोले- मेरे निकट अग्निदेव बैठे हैं, ये ही आपका कल्याण करेंगे। अग्निदेव बोले- देवताओं और पितरों। अब से श्राद्ध में

हम लोग साथ ही भोजन किया करेंगे। मेरे साथ रहने से आप लोगों का अजीर्ण दूर हो जाएगा। यह सुनकर देवता व पितर प्रसन्न हुए। इसलिए श्राद्ध में सबसे पहले अग्नि का भाग दिया जाता है।

One Comment