बहुत ज्यादा प्रिय है शनि को यह एक चीज घर में रखने के दिन से ही पैसा आना हो जाता है शुरू !!

प्राचीन काल में शनिदेव की पूजा आज की तरह सभी मंदिरों में नहीं हुआ करती थी अगर हमें शनिदेव के प्रकोप से बचना होता था तो हम पहले के टाइम में हनुमानजी की उपासना किया करते थे ।क्योंकि भगवान शनि देव ने हनुमान जी को एक वचन दिया था कि जो भी व्यक्ति शनिवार की सुबह उठते ही हनुमान जी का स्मरण करेगा उन्हें याद करेगा उसे भी कोई कष्ट नहीं देंगे लेकिन अब भक्त सीधे शनिदेव के दरबार में जाने लगे हैं। कहा जाता है कि शनिदेव बहुत ही संतुलित देवता है जो जैसा काम करता है उसे वह उसी के कर्मों के स्वरूप फल देते हैं बच्चों के साथ अच्छे होते हैं और बड़ों के साथ बुरे होते हैं किसी के साथ भी वह नाइंसाफी नहीं करते उनका एक ही उद्देश्य होता है इंसाफ।

आज हम आपसे बात करने वाले हैं ऐसे पौधे के बारे में जो शनि देव को अति प्रिय है । कहते हैं भगवान श्रीराम ने लंका में विजय पाने के बाद इस पौधे का पूजन किया था । हम बात कर रहे हैं शमी के पौधे की । शमी के पौधे को शास्त्रों में अत्यधिक पूजनीय माना गया है।यहां तक की नवरात्रि में पूजा करने के लिए भी शमी के पौधे के प्रयोग का विधान बतलाया गया है।

वही महाभारत काल से पता चलता है कि पांडवों ने अपने अज्ञातवास के अंतिम समय में अपने हथियार शमी के वृक्ष पर ही छुपाई थी। इन्हीं कारणों से शमी के पौधे की पूजा का विधान आरंभ हुआ है। तथा शास्त्रों में इस पौधे को पूजनीय माना गया है ।जैसा कि हम सब जानते है न्याय के  देवता शनि देव को प्रसन्न करने के लिए शास्त्रों में अनेक उपाय बतलाई गए हैं।

उन सभी उपाय उनमें से एक उपाय है शमी की पूजा शनि देव की टेढ़ी नजर से अपनी रक्षा करने के लिए आप शनिदेव के इस पौधेे को अपने घर पर लगाकर उसकी पूजा करें। और साथ हि आज शनि एकादशी है अतः आज से बढ़िया हो अवसर और कोई नहीं हो सकता था ।अगर आज के दिन आप शनि के प्रिय पौधे यानी शमी के पौधे को अपने घर पर लगाते हैं। तो आपके घर से सारी नकरात्मक उर्जा जाएगी तथा शनि देव की कृपा आप को प्राप्त होगी।

इस पौधे को अपने घर के उत्तर पूर्व दिशा पर लगाना लाभकारी माना गया है। इस पौधे में कई देवी देवताओं का वास होता है और आयुर्वेद में भी इसे बहुत ही गुणकारी औषधि बतलाया गया है।

3 Comments