सावन शनि प्रदोष व्रत : अवसर का उठाये पूर्ण लाभ , करे ये उन्नति के उपाय

सावन माह की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत है। इस बार यह व्रत 18 जुलाई को आरहा है और फिर 1 अगस्त को। प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा का महत्व होता है। इस दिन शिवजी के साथ शनिदेव की पूजा करने से कई समस्याओ से मुक्ति मिलती है। आईये जानते है शनि प्रदोष व्रत के दिन कोनमसे उपाय करने चाहिए :

1 . शनि प्रदोष के दिन पीपल की पूजा का विशेष महत्व रहता है। पीपल के पेड़ को स्पर्श करते हुए 108 बार ॐ नमः शिवाय का जाप करने से शनि महाराज सभी कष्टों को दूर करदेते है। इसके साथ शनि दोष की पीड़ा और जीवन में चली आरही कठिनाइया ख़त्म होजाती है।
2 . इस दिन पीपल के व्रत की परिक्रमा करे इसके पश्चाद पीपल के पेड़ के निचे बैठकर हनुमान चालीसा और सुन्दर काण्ड करना चाहिए ऐसा करने से मानसिक शान्ति तो मिलती है साथ ही दीर्घायु तथा समृद्धी प्राप्त होती है।

3 . शनि प्रदोष व्रत के साथ इस दिन पीपल के पेड़ के निचे पांच तरह की मिठाईया डालकर अपने पितरो को याद करते हुए उनकी पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से पितरो का आशीर्वाद मिलता है तथा पितृ दोष दूर होता है। घर में सुख शान्ति तथा समृद्धि का वास रहता है।
4 . शनि प्रदोष व्रत रखने के साथ पीपल का पत्ता लेकर शिवलिंग पर चढ़ाये। शनिवार के दिन ऐसा करना कल्याणकारी माना जाता है और शनि महाराज के लिए लाभ दायक होता है। इससे सारे गृह आपके लिए अनुकूल हो जाते है , जिससे नौकरी तथा व्यवसाय में लाभ होता है।
5 . इस दिन दान करने का विशेष महत्व होता है। इस दिन काले जूते , काले कपडे , सरसो का तेल , काली उड़द की दाल , लोहा आदि दान करना शुभ माना जाता है। ध्यान रखे की दान करने वाली वास्तु का घर में प्रवेश ना होने दे , उसे घर के बहार ही दान करे।