ऋषिपंचमी : ऋषियों और महामनीषियों को समर्पित है ये दिन !!!

शास्त्रों के मुताबिक भाद्रपद शुक्लपक्ष की पंचमी तिथि को ऋषि पंचमी कहा जाता है।ऋषिपंचमी का दिन हमारे पूज्य ऋषियों को समर्पित होता है जिन्होंने सृष्टि पर सनातन संस्कृति को जीवंत बनाये रखने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। ऋषिपंचमी, ऋषियों एवं महामनीषियों के दिव्य योगदान हेतु मनाया जाता है।हमारी संस्कृति में ऋषियों का स्थान इतना दिव्य एवं ऊंचा है कि आकाश में सात तारों का एक मंडल नजर आता है , उसे सप्तऋषियों का मंडल कहते है। सप्तऋषि मंडल को भारत के महान सात ऋषियों के नाम केतु, पुलह, पुलस्त्य, अत्रि, अंगिरा, वशिष्ट और विश्वामित्र के नाम से जाना जाता है।

ऋषियों ने समातन संस्कृति को जीवंत बनाया है :
भारतीय संस्कृति व सभ्यता विश्व की सर्वाधिक प्राचीन एवं समृद्ध संस्कृतियों और सभ्यताओं में से एक है, अद्भुत है, अलौकिक है। और इसे आज तक सहेजने, उत्कृष्ट और अजर-अमर बनाये रखने में हमारे ऋषियों का एक अद्भुत योगदान है। आदिकाल से ही आध्यात्मिक संस्कृति, भारत की आत्मा रही है जिसमें संस्कार, सुधार, परिष्कार, शुद्धि, शोध तथा बहुत कुछ समाहित है।

ऋषियों का भारतीय संस्कृति में योगदान है :
हमारे ऋषियों ने हमें सभ्यता के माध्यम से जीवन जीने का ढंग, खान-पान, रहन-सहन, बोलचाल आदि का तरीका सिखाया तथा संस्कृति द्वारा सोच-विचार, चिंतन और विचारधारायेें प्रदान की है। भारतीय संस्कृति का सर्वाधिक व्यवस्थित रूप हमें वैदिक युग में प्राप्त होता है जिसे हम ऋषियों का युग कह सकते है।

विश्व के प्राचीनतम ग्रंथ वेद माने जाते हैं। प्रारंभ से ही भारतीय संस्कृति अत्यंत सशक्त एवं जीवंत रही हैं, जिसमें जीवन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण और आध्यात्मिक प्रवृत्ति का अद्भुत समन्वय है।हमारे ऋषियों ने ‘उदारचरितानां तु वसुधैव कुटुंबकम’ के दिव्य सूत्र हमें दिये तथा यम, नियम, प्राणायाम, आसन के साथ हमें धर्म, अर्थ, काम तथा मोक्ष की प्राप्ति के मूल मंत्र भी प्रदान किये।

ऋषिपंचमी पूजा से रजस्वला दोष निवारण एक भ्रान्ति

स्वामी जी ने कहा है कि वैदिक काल से ही भारतीय संस्कृति में महिलाओं को उचित स्थान दिया गया है। वर्तमान समय में भी महिलाओं के प्रति समाज की सोच बदली है तथा उन्हें सशक्तिकरण की ओर ले जाने के लिये प्रयास भी किये जा रहे है, वहीं दूसरी ओर हमारे समाज में आज भी अनेक ऐसी परम्परायें है जिससे हम जकड़े हुये है, उन्हीं में से एक है मासिक धर्म के प्रति फैली हुई भ्रान्तिया

अनेक स्थानों पर उल्लेख मिलता है कि ऋषि पंचमी व्रत करने से मासिक धर्म के दौरान भोजन को छूने से जो पाप नारियों को लगता है उससेे मुक्ति मिल जाती है। स्त्रियों को मासिक धर्म के दौरान रजस्वला दोष लगता है तथा ऋषिपंचमी का व्रत करने से वह रजस्वला दोष से मुक्त हो जाती है। जबकि मासिक धर्म एक जैविक प्रक्रिया है जिसका सम्बंध दोष तथा पाप जैसे शब्दों से नहीं है।

हाँ ऋषिपंचमी के दिन अपने ऋषियों द्वारा दिये संस्कारों को हम अपने जीवन में लायें, यही सबसे बड़ा व्रत होगा साथ ही ऋषियों को भावाजंलि होगी। आज की युवा पीढ़ी को यह समझना होगा तथा इसके प्रति महिलाओं को भी जागरूक करना होगा।

अपनी संस्कृति, पर्व और त्योहारों पर आस्था और श्रद्धा आवश्यक है साथ ही यह नितांत निजी विषय भी है, परन्तु जिन परम्पराओं, मिथकों और वर्जनाओं के कारण हमारे देश की 23 प्रतिशत बेटियों को स्कूल छोड़ना पड़ता है उसे जितनी जल्दी हो सके छोड़ देना ही उचित है इसलिये आईये भ्रम में नहीं बल्कि भाव में जिये।