Latest

जानिए भगवान शिव के गले में लिपटे नाग के 10 रहस्य :

आपने शिव भगवानके चित्र में उनके गले में लिपटे नाग को देखा होगा। आखिर यह नाग कौन था और क्या है इसकी उत्पत्ति का रहस्य जानिए इस संबंध
Read More

इस मंत्र उच्चारण के साथ शिवजी पर चढ़ाएं कच्चा दूध, होगा हर छोटा-बड़ा संकट दूर, पढ़ें कथा :

 शिवलिंग पर कच्चा दूध चढ़ाने का विशेष महत्व होता है। शिवजी ने विषपान किया था। शिव महापुराण के मुताबीक सृष्टि निर्माण से पहले केवल शिवजी का ही अस्तित्व
Read More

क्या आप जानते हैं वैष्णो देवी के मंदिर बनने की एक कथा?

मां वैष्णो देवी मंदिर की कहानी तथा महिमा ऐसा माना जाता है की इस मंदिर का निर्माण करीबन 700 साल पहले पंडित श्रीधर द्वारा हुआ था, जो एक
Read More

जानिए अमरनाथ गुफा में शुकदेव और पवित्र कबूतर की पौराणिक कथा :

अमरनाथ की इस पवित्र गुफा में शंकर भगवान ने भगवती पार्वती को मोक्ष का मार्ग दिखाया था। इस तत्वज्ञान को ‘अमरकथा’ के नाम से जाना जाता है इसीलिए
Read More

मंत्र क्या है और क्यों जरूरी है?जानिए मंत्रों की दिव्य तरंगों से क्या असर होता है :

मंत्र शब्दों का एक खास क्रम है जो उच्चारित होने पर एक खास किस्म का स्पंदन पैदा करते हैं और जो हमें हमारे द्वारा उन स्पंदनों को ग्रहण
Read More

जानिए गायत्री माता के सबसे अनोखे मंदिर का रहस्य :

माँ गायत्री से जुड़े गायत्री मंत्र के बारे में सभी जानते है, हम बचपन से ही गायत्री मंत्र का गान किसी ना किसी मौके पर कर रहे है
Read More

श्राद्ध : श्राद्ध में ब्राह्मण भोज करवाने से पहले जान लोजीए ये 8 आवश्यक निर्देश !!

श्राद्ध में ब्राह्मण भोजन का विशेष महत्व होता है। शास्त्रानुसार ब्राह्मण पितरों के प्रतिनिधि होते हैं और पितर सूक्ष्म रूप से ब्राह्मणों के मुख से ही भोजन ग्रहण
Read More

सर्वपितृ अमावस्या 2020 : 16 दिन श्राद्ध नहीं किया है तो इस दिन करें ये काम !!!

आश्विन मास की कृष्ण अमावस्या को सर्वपितृ मोक्ष श्राद्ध अमावस्या कहते हैं। यह दिन श्राद्ध का आखिरी दिन होता है। अगर आप पितृपक्ष में श्राद्ध कर चुके हैं
Read More

घर पर कैसे करें पिंडदान तथा तर्पण – श्राद्ध में पितरों के लिए घर पर पूजा-पाठ

श्राद्ध 2020 हर वर्ष की तरह इस बार भी पितृपक्ष की परंपरा चल रही है। परंतु कोरोना महामारी के चलते पिंडदान, तर्पण और इससे जुड़ी कई परंपराएं किसी
Read More

श्राद्ध : जानिए सर्वपितृ अमावस्या श्राद्ध में क्या-क्या करना चाहिए !!

पितरों को विदा करने की अंतिम तिथि सर्वपितृ अमावस्या होती है। 15 दिन तक पितृ घर में विराजते हैं तथा हम उनकी सेवा करते हैं फिर उनकी विदाई
Read More