आज यानी नवरात्रि के आखिरी दिन अपनाएं ये चमत्कारी टोटके,मिलेगा हर समस्या से निजात..!!!

आज नवरात्रि के 9 दिन चलने वाले पावन पर्व का आखिरी दिन है ऐसे में जहां 9 दिन हम प्रतिदिन अलग-अलग देवियों की पूजा करते हैं, वहीं कई जगहों पर टोटका करने का भी प्रचलन हैं। जीवन में सुख-समृद्धि प्राप्त करने के लिए लोगों में टोटके कराने की भी मान्यताएं हैं। माना जाता है कि नवरात्रि में यदि टोटके किए जाए तो समस्या जल्द से जल्द खत्म हो जाती हैं। आइए आज हम आपको बताते हैं नवरात्रि के आखिरी दिन किए जाने वाले ऐसे टोटको के बारे में, जिससे आपको मिलेगा हर समस्या से निजात।

माँ दुर्गा सिंह पर सवार
माँ दुर्गा सिंह पर सवार

मनोवांक्षित फल पाने के लिए

नवरात्रि के आखिरी दिन किसी शिव मंदिर में जाएं। वहां शिवलिंग पर दूध, दही, घी, शहद और शक्कर चढ़ाते हुए उसे अच्छी तरह से स्नान कराएं। इसके बाद शुद्ध जल चढ़ाएं और पूरे मंदिर में झाड़ू लगाकर उसे साफ करें। अब महादेवजी की चंदन, पुष्प एवं धूप, दीप आदि से पूजा-अर्चना करें। उसी दिन रात 10 बजे बाद अग्नि प्रज्वलित कर “ऊँ नम: शिवाय” मंत्र का उच्चारण करते हुए घी से 108 आहुति दें। अब 40 दिनों तक नित्य इसी मंत्र का

पांच माला जप भगवान शिव के सम्मुख करें। इससे आपकी मनोकामना बहुत जल्दी पूर्ण होगी।

धनलाभ के लिए

नवरात्रि के आखिरी दिन आप किसी एक खाली या शांत कमरे में उत्तर की दिशा की ओर अपना मुंह करके पीले आसन पर बैठ जाएं। अपने सामने तेल के 9 दीपक जलाएं और ये साधनाकाल तक जलते रहने चाहिए। इन 9 दीपकों के सामने लाल चावल की एक ढेरी बनाकर उस पर एक श्रीयंत्र रख लें। इस श्रीयंत्र का कुंकुम, फूल, धूप, तथा दीप से पूजन करें। इस पूरी क्रिया के बाद एक प्लेट पर स्वस्तिक बनाकर उसका पूजन करें। अब इस श्रीयंत्र को अपने घर के पूजा स्थल में स्थापित कर दें तथा शेष सामग्री को नदी में प्रवाहित कर दें। इस प्रयोग से आपको जल्दी ही अचानक धन लाभ होगा।

माँ दुर्गा के 9 रूप
माँ दुर्गा के 9 रूप

घर परिवार में समस्या के निजात के लिए

नवरात्रि के अंतिम दिन स्नान आदि कर नीचे दिए गए हुए मंत्र को पढ़ते हुए 108 बार अग्नि में घी से आहुतियां दें। इससे यह मंत्र सिद्ध हो जाएगा। इसके बाद रोजाना नित्य सुबह उठकर पूजा के समय इस मंत्र का 21 बार जप अवश्य करें। यदि संभव हो तो अपने परिवारजन से भी इस मंत्र का जप करने के लिए कहें। इससे जीवन भर परिवार में मधुर संबंध बने रहेंगे।

मंत्र

सब नर करहिं परस्पर प्रीति। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीति।।

जल्द विवाह के लिए

नवरात्रि में शिव-पार्वती का एक चित्र अपने पूजास्थल में रखें और उनकी विधिवत पूजा-अर्चना करने के के बाद नीचे दिए गए हुए मंत्र का 3, 5 अथवा 10 माला जप करें। जप के पश्चात भगवान शिव से विवाह में आ रही बाधाओं को दूर करने की प्रार्थना करें। इस मंत्र के प्रभाव से जल्दी ही विवाह के आसार बन जाते हैं।

मंत्र

ऊँ शं शंकराय सकल-जन्मार्जित-पाप-विध्वंसनाय, पुरुषार्थ-चतुष्टय-लाभाय च पतिं मे देहि कुरु कुरु स्वाहा।।

 

2 Comments