आने वाली नवरात्री के 9 दिन छूना भी नहीं इन 5 चीज़ो को वरना पूजा का मिलेगा उलटा फल !!

21 सितंबर गुरुवार से नवरात्रि का पावन महीना शुरु हो रहा है नवरात्रि पर 9 दिनों तक मां दुर्गा की विशेष कृपा भक्तों पर होती है। नवरात्रि के शुभ अवसर पर मां दुर्गा को पालकी में लाने की मान्यता है जो भी भक्त मां जगदंबा का व्रत 9 दिनों तक सच्चे मन से विधिविधानपूर्वक पूजा पाठ करता है उस की सभी मनोकामनाएं पूरी कर देती है।

नवरात्रि पर 9 दिनों तक मां के प्रति श्रद्धा रख कर जो लोग वक्त करते हैं उनके ऊपर मां की कृपा बरसती है। लेकिन शास्त्रों में कुछ ऐसी बातें बताई है यदि जिन्हें भूलवश भी लोग कर बैठे तो इससे मां दुर्गा नाराज हो जाती है। और  जीवन में सब कुछ गड़बड़ होने लगता है और गंभीर परिणाम भी देखने को मिलते हैं।

इसलिए नवरात्रि के समय कुछ ऐसे काम है। जिन्हें करना वर्जित माना गया है। जिन्हें आपको भूल से भी नहीं करना चाहिए नहीं तो आपकी सभी पूजा-पाठ व्यर्थ हो जाएंगे और आपकी पूजा का फल आपको नहीं मिलेगा। तो दोस्तों आइए जानते हैं आपको नवरात्रि में क्या सावधानियां रखनी है।

नवरात्रि के समय 9 दिनों तक नॉन वेज बिल्कुल भी ना खाएं जो व्यक्ति व्रत रखता है। उसे ना तो बाल कटवाने चाहिए ना ही सेविंग करानी चाहिए। बच्चों का मुंडन भी इस समय करवाना अशुभ माना जाता है। यदि इस नवरात्रि आप घर पर अखंड ज्योति कलश स्थापना करते हैं तो उस समय घर को खाली नहीं छोड़ना चाहिए साथ ही इन 9 दिनों तक यह ज्योति लगातार प्रज्वलित होनी चाहिए।

 

9 दिनों तक प्याज लहसुन आदि का प्रयोग ना करें। नींबू का काटना भी नवरात्रि के दिनों में अशुभ माना जाता है। विष्णु पुराण में कहा गया है कि नवरात्रि के 9 दिनों में दोपहर के समय नहीं सोना चाहिए यदि आप ऐसा करते हैं तो नवरात्रि में किए गए आप के वर्क व्यर्थ जाएंगे ।और मां का आशीर्वाद आपको प्राप्त नहीं होगा ।

मां जगदम्बा की भक्ति विशेष रूप से आश्विन शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से आश्विन शुक्ल नवमी तक की जाती है जिसको हम ‘शारदीय नवरात्रि’ कहते हैं। प्रथम दिवस घटस्थापना की जाती है। घटस्थापना शुभ मुहूर्त में करना चाहिए। जानिए इस वर्ष घर पर कलश स्थापना कब करें?

चौघड़िया अनुसार मुहूर्त
सुबह 6.16 से 7.47 तक शुभ।
दोपहर 12.20 से 1.51 तक लाभ।
दोपहर 1.51 से 3.21 तक अमृत।
शाम 4.52 से 6.23 तक शुभ।
शाम 6.23 से 7.52 तक अमृत।
लग्नानुसार ब्रह्म मुहूर्त
3.46 से 6.47 : अमृत 
सुबह 6.08 से 8.06 कन्या लग्न।
सुबह 8.06 से 10.20 तुला लग्न।
शाम 4.28 से 6.03 कुंभ लग्न।
रात्रि 7.32 से 9.15 मेष लग्न।
रात्रि 9.15 से 11.12 वृषभ लग्न।

3 Comments