प्रसिद्ध शक्तिपीठ है यह माता का दरबार; जहाँ एक ही गादी पर विराजित है माता रानी और भैरवनाथ..!!!

आज हम बता कर रहें है मध्यप्रदेश के मंदसौर शहर से पांच किमी दूर ग्राम में स्थित देश के चुनिंदा शक्तिपीठों में से एक नालछा माता मंदिर के बारे में नालछा माता मंदिर । यह अति प्राचीन मंदिर है जिसका उल्लेख विभिन्न ग्रंथों में ही मिलता है। इस मंदिर को लेकर मान्यता है कि मां नालछा दिन में तीन बार रूप बदती है; सुबह बाल्यावस्था, दोपहर में युवावस्था और रात्रि में वृद्धावस्था का रूप दिखता है। नालछा माता के आशीर्वाद के लिए लोग

नालछा माता मंदिर परिसर
नालछा माता मंदिर परिसर

अंगारों पर दौड़ते हैं। माता का मंदिर अपने आलोकिक चमत्कारों के चलते तो प्रख्यात है, ही वही मान्यता है, कि यह ऐसा दिव्य मंदिर है,जहां मातारानी और भैरवनाथ दोनों एक ही गादी पर विराजित हैं ।

प्राचीन मान्यता के अनुसार राजा दशरथ के राज्य अयोध्या की सीमा का यह अंतिम पड़ाव था। पास बहने वाले नाले के किनारे ही राजा दशरथ ने श्रवण कुमार का वध किया था, तभी से नाले को श्रवण नाले के नाम से ही जाना जाता है। नवरात्रि पर मां का विशेष श्रृंगार आभूषणों से किया जाता है। नौ दिन तक महाआरती और धार्मिक आयोजनों का दौर दिन भर चलता है।

नालछा माता मंदिर
नालछा माता मंदिर

मंदिर पर शारदीय और चैत्र नवरात्रि में विभिन्न धार्मिक आयोजन होते हैं, साथ ही प्रति रविवार सुबह शाम माता की महाआरती का आयोजन भी किया जाता है।  यहां सैकड़ों वर्षो पुराने इस नालछा माता मंदिर की ख्याति 3 दशकों से काफी बड़ी है। शहरी नहीं अपितु जिले व प्रदेश के विभिन्न अंचलों से भी

भक्त यहां माता रानी के दर्शन हेतु जाते हैं ।

यहां माता से जो भी सच्चे मन से कोई भी मुराद मांगता है, वह कभी खाली हाथ नहीं लौटता ।

 

॥ जय माँ नालछा ॥