नाग पंचमी 2020 : जानिए पूजा विधि और शुभ मुहर्त !!!

सावन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन नाग देव की पूजा का विधान है। नागपंचमी की पूजा करने से जीवन की सभी मुश्किलें आसानी से दूर होजाती है मान्यताओं के मुताबिक इस दिन साप की पूजा करने से नाग देवता प्रसन्न होते है। इसलिए इस दिन की तिथि पर सर्पो को दूध पिलाने की भी परंपरा है। नाग पंचमी के दिन वासुकि नाग , तक्षक नाग , शेषनाग आदि की भी पूजा की जाती है। इस दिन लोग अपने घर के द्वार पर नागो की आकृतिया बनाते है। इस बार नागपंचमी का त्यौहार 25 जुलाई शनिवार के दिन मनाया जा रहा है। जानिए नागपंचमी से जुडी कुछ ख़ास बाते :

नाग पंचमी की पूजा विधि :
इस दिन प्रातः में जल्दी उठकर घर की सफाई करकर स्नान करे और स्वच्छ होजाए। इसके पश्चाद प्रसाद स्वरुप चावल और सिवई बना ले। अब पटिये पर साफ़ लाल या पिले रंग का कपडा बिछाए। उस पटिये पर नागदेवता की प्रतिमा स्थापित करे। प्रतिमाजी पर जल , चन्दन , फल , फूल चढ़ाए। नाग देवता की प्रतिमा को दूध , दही , घी , शहद साथ ही पंचामृत से स्नान कराए और फिर आरती करे । ऐसा माना जाता है की ऐसा करने से आपके घर की बुरी शक्तियों से रक्षा होती है। इस दिन सपेरों से किसी नाग को खरीदकर मुक्त कराया जाता है। जीवित सर्प को दूध पिलाकर नाग देवता को प्रसन्न कर सकते हैं।

नाग पंचमी का शुभ मुहर्त :
नाग पंचमी 25 जुलाई , 2020 शनिवार सुबह 5 बजकर 39 मिनट से 8 बजकर 22 तक रहेगा।
नाग पंचमी तिथि प्रारम्भ : 24 जुलाई , 2020 को 2:34 PM
नाग पंचमी समाप्त : 25 जुलाई , 2020 को 12:02 PM