केवल इस मंत्र का जाप कर आप जान सकते हैं अपनी मौत का समय !! जानिये क्या है इस मंत्र मे ऐसा खास !!

वैदिक ज्योतिष में मंत्रों को हर रूप में बेहद प्रभावशाली माना गया गया है। जीवन की अलग-अलग परेशानियों के लिए अलग-अलग मंत्रों का उल्लेख किया गया है। शास्त्रानुसार ये मंत्र इतने अधिक प्रभापूर्ण होते हैं कि बड़ी से बड़ी परेशानियां भी केवल इनके उच्चारण से ही दूर की जा सकती हैं। लेकिन इसके सही विधि और संख्या से मंत्रों का जाप करना आवश्यक है अन्यथा ये निष्फल होते हैं या कई बार इनके उलट प्रभाव भी मिलते हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी कि मंत्रों के द्वारा आप अपनी मौत का समय भी जान सकते हैं। आगे हम जो मंत्र यहां बता रहे हैं, इसका जाप अगर चंद्र ग्रह्ण या सूर्य ग्रहण की रात्रि में 108 की संख्या में की जाए तो व्यक्ति आनी शेष आयु पता चल सकती है। तात्पर्य यह कि आपको अपनी मौत का समय पता चल सकता है। अगर आप इसकी सत्यता जानना चाहते हैं तो इसे आजमा सकते हैं। नारायण सूक्तम् में इस मंत्र का उल्लेख है, जो इस प्रकार है:

“ॐ ऋतं सत्यं परं ब्रह्म पुरुषं कृष्ण पिङ्गलम ।

ऊर्ध्वरेतं विरूपाक्षं विश्वरूपाय वै नमो नमः॥”

इसका निश्चित फल प्राप्त करने के लिए चंद्र ग्रहण या सूर्य ग्रहण को सबसे पहले इसकी एक माला का जाप करें। इसके पश्चात लगातार तीन रातों तक ऐसा करें।