जानिये कौन सी है काशी विश्वनाथ की रहस्मय पहेली जिसके हल होने पर आ जाएगा महाप्रलय!!!

जानिये कौन सी है काशी विश्वनाथ की रहस्मय पहेली जिसके हल होने पर आ जाएगा महाप्रलय!!!

ऐसी मान्यता है कि बनारस स्थित बाबा विश्वनाथ के मंदिर में भी पृथ्वी के विनाश की एक भविष्यवाणी की गई है। यह भविष्यवाणी गणित की एक बेहद कठिन पहेली में की गई है। हालांकि इस कठिन पहेली को गणित द्वारा हल कर लिया गया है लेकिन इसे असल जीवन में लागू करना असंभव है।कहा जाता है कि विश्वनाथ मंदिर के नीचे एक तलघर है। उसमें कांसे का एक पाटा रखा हुआ है। इसमें हीरों से बनी तीन लंबी कीलें लगी हुई हैं। इनमें से एक कील में सोने से बने हुए 64 गोल छल्ले पिरोए हुए हैं। इनमें सबसे नीचे सबसे बड़ा छल्ला, फिर उससे छोटा और इसी क्रम में सबसे ऊपर सबसे छोटा छल्ला पिरोया हुआ है।

छल्लों के बारे में एक पहेली का उल्लेख किया जाता है कि यदि कोई मनुष्य इन छल्लों को एक कील से निकालकर दूसरी कील में पिरो देगा तो प्रलय हो जाएगी। यह शर्त सुनने में बहुत आसान लगती है लेकिन इसके 2 नियम भी हैं। पहला नियम ये कि एक समय में केवल एक छल्ला ही निकाला या पिरोया जाएगा और दूसरा नियम, कोई भी बड़ा छल्ला छोटे छल्ले के ऊपर नहीं रखा जाएगा।

इस प्रकार जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते जाएंगे यह पहेली और भी जटिल होती जाएगी और जिन लोगों का गणितीय ज्ञान बहुत बेहतर नहीं है, वे तो इसे समझ ही नहीं पाएंगे। गणितज्ञ लायकराम शर्मा कहते हैं कि हर चाल को पूरा करने में अगर हमें 1 सेकंड का भी समय लगे तो संपूर्ण छल्लों से जुड़ी प्रक्रिया पूरी करने में बहुत समय लग जाएगा।

यह समय एक या दो दिन नहीं बल्कि पांच नील और 80 खरब वर्ष के बराबर है। इतने समय तक किसी मनुष्य का जीना असंभव है। कुल मिलाकर यही कहना चाहिए कि शिव की इस पहेली को शिव ही जानें।

 

830 Comments