अविश्वसनीय रहस्य: क्यों मारा श्रीकृष्ण ने एकलव्य को..!!!

भगवान श्रीकृष्ण ने छल से एकलव्य का वध कर दिया
भगवान श्रीकृष्ण ने छल से एकलव्य का वध कर दिया

एकलव्य के बारे में तो सब जानते ही है जिसने अपना दाएँ हाथ का अगूंठा द्रोणाचार्य को गुरुदक्षिणा में दे दिया था।एकलव्य निषादराज हिरण्यधनु और माता रानी सुलेखा के पुत्र थे।एकलव्य के युवा होने पर उनका विवाह एक निषाद की कन्या सुणीता से कर दिया गया।

आपको जानकर आश्चर्य होगा राजकुमार एकलव्य अंगुष्ठ बलिदान के बाद अपने साधनापूर्ण कौशल से बिना अंगूठे के धनुर्विद्या में पुन: दक्षता प्राप्त कर लेते है। एकलव्य ने अपनी दक्षता के बल पर ही निषाद भीलों की एक सशक्त सेना को गठित किया और निषाद वंश का राजा बनने के बाद एकलव्य ने जरासंध की सेना की सहायता करने के लिए श्रीकृष्ण के राज्य मथुरा पर आक्रमण किया और यादव सेना का लगभग सफाया कर दिया था। जब

श्रीकृष्ण ने केवल चार अंगुलियों के सहारे धनुष बाण चलाते हुए एकलव्य को देखा तो उन्हें इस दृश्य पर विश्वास नहीं हुआ। एकलव्य अकेले ही सैकड़ों यादव वंशी योद्धाओं को रोकने में सक्षम था। इसलिए भगवान श्रीकृष्ण ने छल से एकलव्य का वध कर दिया। एकलव्य का पुत्र केतुमान महाभारत युद्ध में भीम के हाथ से मारा गया था।

 

3 Comments