कल्युग में भगवान हनुमान इन 5 जगहों पर हमेशा उपस्थित रहते हैं !!

भगवान हनुमान जी को कलयुग का देवता बताया गया है ऐसा कहीं वेदों में साफ लिखा हुआ है कि कलयुग में जो इंसान हनुमान का पूजन करेगा और अगर उसकी भक्ति सच्ची हुई तो उसको कलयुग में साक्षात भगवान के दर्शन जरूर होंगे। लेकिन आज कलयुग में इंसान भगवान के ऊपर भी विश्वास नहीं कर पा रहा है उसको ऐसा लगता है कि जैसे भगवान जैसी कोई चीज नहीं होती यदि भगवान होता तो उसके दर्शन को जरूर होना चाहिए ।तो आइए जानते हैं कि कलयुग में भगवान हनुमान के दर्शन आपको किन जगहों पर हो सकता है ।वैसे यह बात रामायण में बताई गई है किंतु इस बात पर गौर ही नहीं कर किया गया है।

1 रामायण का पाठ जहां होगा

वैसे शास्त्र बताते हैं कि किन जगहों पर राम का नाम सच्चे दिल से लिया जाता है वह वहां हनुमान किसी न किसी रुप में निश्चित रुप से विराजित होता है। ऐसा कई बार देखा भी गया है कि रामायण का पाठ चल रहा है। और वहां बाहर रूप में हनुमान कई बार आए हैं इस तरह के कई चमत्कार देखें भी गए हैं। खुद तुलसीदास जी बताते हैं कि ऐसा हो नहीं सकता कि कहीं सच्चे दिल से राम का नाम लिया जा रहा हूं और वहां भगवान हनुमान हाजिर ना हो।

2 गंधमादन पर्वत

गंधमादन पर्वत पर कलयुग में हनुमान का निवास होगा इस बात के प्रमाण कई जगह दिए गए हैं कई साधु बने तो इस जगह पर तपस्या करके हनुमान जी के दर्शन साक्षात रुप में की हुई है। आपको बता दें कि गंधमादन कैलाश पर्वत के उत्तर में स्थित है हनुमान का कलयुग में एक निवास स्थान यह भी बताया गया है।

3 किष्किंधा अंजनी पर्वत

उत्तर भारत में लोगों ने किसको किस गांव का नाम तो बस रामायण में ही पड़ा हुआ है। लेकिन आपको बता दें कि कर्नाटक के कोप्पल और बेल्लारी जिले के पास आज भी किष्किंधा क्षेत्र है। जहां एक पर्वत पर हनुमान की माता ने बैठकर तपस्या की थी इस स्थान के बारे में अधिक लोग जानते नहीं आपको पता दे भगवान राम को भी हनुमान नहीं मिले थे कलयुग में हनुमान सही साधुओं को यहां मिले हैं।

4 नीमकरोरी बाबा में नजर आए हनुमान

इस बात को कई लोग स्वीकार कर चुके हैं कलयुग में हनुमान जी बाबा नीम करोलिि बाबा  के अंदर नजर आए थे ।आज भी बाबा के नैनीताल के मंदिर और लखनऊ वाले मंदिर में कई चमत्कार जो हनुमान जी से जुड़े हुए हैं वह होते रहते हैं बाबा के अंदर कही भक्तों को हनुमान ने दर्शन दिए हैं।

5 रामभक्त के दिलों में हनुमान

रामायण में एक जगह ऐसी भी है जो भगवान राम का धरती से जाने का समय हुआ तो हनुमान जी इस जगत को छोड़ राम जी के साथ जाना चाहते थे। तब राम ने हनुमान को बोला था कि प्रिय हनुमान जो समय आगे आने वाला है वह समय काल का समय होगा कलयुग उसका नाम होगा और तब धर्म का खात्मा हो रहा होगा। तब वह जो राम के भक्त होंगे उसके दिल में तुझको रहना होगा और इन राम भक्तों की लाज बचाने होगी इसलिए कभी हनुमान अपने राम भक्तों के दिल में सदा विराजमान रहते हैं।

317 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.