जरूर पढ़े:क्यों सिर्फ गुरुवार को ही लगाना चाहिए तुलसी का पौधा..!!!

तुलसी के पौधे में भगवान का वास होने से हमारे हिंदू धर्म में इसका खास महत्व है,और इसलिए इसे घर के आंगन में लगाया जाता है। तुलसी के पौधे में वातावरण की नकारात्मक ऊर्जा को खत्म करने की क्षमता होती है।  देवी-देवताओं की पूजा में इसका इस्तेमाल किया जाता है। तुलसी के पौधे के अंदर औषधीय और दैवीय दोनों ही गुण हैं। तुलसी दो तरह की होती है। हरे पत्ते वाली तुलसी को राम तुलसी तो हल्के काले रंग के पत्ते वाली को श्याम तुलसी

घर के आंगन में तुलसी का पौधा
घर के आंगन में तुलसी का पौधा

कहा जाता है। हरे पत्तों वाली तुलसी बच्चों के लिए तो श्यामा तुलसी बड़ों के लिए लाभकारी होती है।

इतनी गुणकारी तुलसी माँ की पूजा के कुछ विधान है आइये आज जानते है क्या है वे और तुलसी का पौधा रखते वक़्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ।

  • तुलसी का पौधा किसी भी बृहस्पतिवार को लगा सकते हैं। ऐसा इसलिए क्यूंकि पुराणों में तुलसी को भगवान विष्णु की पत्नी कहा गया है।
  • ऐसा माना गया है कार्तिक माह इसके लिए सर्वोत्तम है।

  • पौधा शाम को यहां फिर सुबह के वक्त लगाएंगे तो अच्छा रहेगा।
  • कार्तिक महीने में ही तुलसी का विवाह हुआ था। इसकी पूजा करने और विवाह करवाने से सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।
  • बता दें तुलसी का पौधा घर के बीच या आंगन में लगाना चाहिए । अगर आपके घर में आंगन नहीं है तो बालकनी में लगा सकते हैं। इसे ऐसी बालकनी में लगाएं जो कि आपके शयनकक्ष से नजदीक हो।
तुलसी का पौधा
तुलसी का पौधा
  • सूर्य को जल अर्पित करें और उसके बाद तुलसी के पौधे में भी जल डालें।
  • जल डालने के बाद कम से कम सात बार तुलसी के पौधे की परिक्रमा करें।
  • रोजाना तुलसी के पौधे के नीचे घी का दीपक जलाएं, इससे भी आपको फायदा होगा।

तुलसी पूजन में सावधानियां

  • तुलसी के पत्ते हमेशा सुबह ही तोड़ने चााहिए, दूसरे किसी समय में ये पत्ते तोड़ना उत्तम नहीं होता।
  • तुलसी के पत्ते कभी बासी नहीं होते, इन्हें तोड़ने के कई दिनों बाद भी इन्हें पूजा में शामिल किया जा सकता है।

  • तुलसी के पत्तों को बार-बार धोकर भी देवताओं को चढ़ा सकते हैं।
  • रविवार के दिन तुलसी तो जल तो चढ़ा सकते हैं लेकिन उसके नीचे दीपक नहीं जला सकते।
  • भगवान गणेश और मां दुर्गा को कभी भी तुलसी ना चढ़ाएं।
  • जो सबसे ज्यादा ध्यान रखने की बात है वो यह कि जहां भी तुलसी का पौधा लगाया गया है, वहां ज़रा भी गंदगी ना हो वरना माँ तुलसी आपसे नाराज़ हो जाएंगी ।

 

2 Comments