सूर्य ग्रहण के बाद 5 जुलाई को लगने वाला है चंद्र ग्रहण :जानिए ग्रहण का सूतक काल !!!

सूर्य ग्रहण के बाद अब आ रहा है चंद्र ग्रहण ,5 जुलाई को लगेगा । यह ग्रहण इस साल का तीसरा ग्रहण होगा। इसके पहले 10 जनवरी तथा 5 जून को लगा था चंद्र ग्रहण। इस साल 4 चंद्र ग्रहण लगेंगे। साल का आखरी चंद्र ग्रहण 30 नवंबर को लगेगा । 21 जून पर लगने वाले सूर्य ग्रहण ने उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में चन्द्रमा को 98.6 % ढक लिया था जिससे यह कंगन जैसे आकर का दिखने लगा था । ज्योतिषचार्यों ने इसे कंकणाकृति सूर्य ग्रहण कहा।

चंद्र ग्रहण का समय :
चंद्र ग्रहण प्रारम्भ समय : 5 जून की रात 11 बजकर 15 मिनट
चंद्र ग्रहण समाप्ति समय : 6 जून 2 बजकर 34 मिनट
चंद्र ग्रहण कितने प्रकार के होते है :
पूर्ण चंद्र ग्रहण
आंशिक चंद्र ग्रहण
उपच्छाया चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण का सूतक काल :
सूतक काल वह काल होता है जब ग्रहण लगने से पूर्व किसी भी शुभ कार्य को रोक दिया जाता है। सूतक काल ग्रहण लगने से पहले प्रारम्भ होता है और ग्रहण समाप्त होने के साथ यह भी समाप्त हो जाता है। हालांकि 5 जुलाई को लगने वाला उपच्छाया चंद्र ग्रहण । इस कारण देशभर में किसी भी राज्य में सूतक काल मान्य नहीं होगा।

जानिए क्या होता है उपच्छाया चंद्र ग्रहण :
उपच्छाया ग्रहण उसे कहते है जब सूर्य और चाँद के बिच पृथ्वी घूमते हुए आती है परन्तु वह सीधी रेखा में नहीं आते है। ऐसी स्तिथि में चंद्रमाँ की छोटी सतह में अम्ब्र नहीं पड़ती हे पृथ्वी के मध्यम हिस्से से पड़ने वाली छाया को अम्ब्र कहते हे तथा पीनम्ब्र या उपच्छाया वह कहलाता हे जिसमे चाँद के बाकि हिस्से में पृथ्वी के बाहरी हिस्से की छाया पड़ती हे।