केदारनाथ मे आपदा के बिच हुए थे भगवान शिव प्रकट और किये ऐसे चमत्कार जिन्हें सुनकर हैरान हो जाएँगे आप!!!

केदारनाथ मे आपदा के बिच हुए थे भगवान शिव प्रकट और किये ऐसे चमत्कार!!

बाबा केदारनाथ का मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ पर्वतराज हिमालय की केदार चोटी पर स्थित है। कहा जाता है यहां पर भगवान भोलेनाथ का वास है, यहा महादेव साक्षात बसते है। फिर भला वो कैसे अपने निवास पर कोई आंच आने देते। आज हम आपको ऐसे चम्त्कार के बारे मे बताने जा रहे है जिनको आपने पहले कभी नही सुना होगा।

केदारनाथ मे भयंकर आपदा के बिच हुए थे भगवान शिव प्रकट
केदारनाथ मे भयंकर आपदा के बिच हुए थे भगवान शिव प्रकट

बात 2013 की है जब केदारनाथ के समीप स्थिर मन्दाकिनी नदी ने एक प्रलय का रूप ले लिया था। जो कुछ भी इनके रास्ता में आता वो इसे अपने साथ बहा ले जाती थी। केदारनाथ में आई आपदा के वक्त जब पूरा उत्तराखंड तबाही का दंश झेल रहा था, तभी केदारनाथ धाम में कई चमत्कार भी हुए। जिसे देख लोग आश्चर्य में पड़ गए।

लेकिन, महादेव के आगे किसकी चलती है। यही बात सिद्ध हुई इस प्रलय के दौरान हुए इस चमत्कार से

मंदाकिनी के विकराल प्रलयकारी रूप ने आस-पास के सभी देवालयों को अपने साथ बहा लिया और उसकी लहरे बार बार केदारनाथ धाम पर चोट कर रहीं थीं। मन्दाकिनी नदी का साहस इतना बढ़ चुका था की वह केदारनाथ को भी अपने साथ बहा ले जाना चाहती थी।

लेकिन तभी इस तबाही को रोकने के लिए मंदिर के आगे कुछ शिलाएं प्रकट हुई जिन्होंने मंदिर को मन्दाकिनी की चोटों से बचा लिया और मंदाकिनी का अहंकार चूर कर दिया। जिसके बाद इसका नाम भीम शिला रख दिया गया। भक्तों की माने तो यह स्वयं भगवान शंकर थें जिन्हें देवालय की रक्षा के लिए प्रकट हुए थे। केदारनाथ के दर्शन को आने वाले भक्तो द्वारा आज यह शिला भीम शिला के रूप में पूजी जाती है।

इसके अलावा जैसा की आप सभी जानते हैं। महादेव अर्थात शिव जी की सवारी थी नंदी बैल। जिसकी प्रतिमा इस मंदिर के बहार स्थित है, लेकिन मन्दाकिनी की तेज लहरें इस मूर्ति को बहाना तो दूर खरोंच भी नहीं पंहुचा सकीं।और आज भी वह मुर्ति वैसी ही अवस्था मे स्तिथ है।

आखिरी चमत्कार हैं खुद प्रभु, जिनकी देवालय मंदाकिनी के आये जल प्रलय में मलवे से पट गया, लेकिन अभी भी इसमें स्थित शिवलिंग के दर्शन साफ़ मिलतें हैं, जैसे महादेव मंदाकिनी के अहंकार को तोडऩे के लिए मंद-मंद मुस्कुरा रहें हों।

215 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.