अद्भुत मंदिर जहाँ देवी माँ दिन में बदलती है ३ रूप..!!!जरूर पढ़े..!!!!

अद्भुत मंदिर जहाँ देवी माँ दिन में बदलती है ३ रूप..!!!जरूर पढ़े..!!!!

आज हम आपको बता रहे है उत्तराखंड में बदरीनाथ-केदारनाथ यात्रा मार्ग के मुख्य पड़ाव से 15 किमी की दूरी पर स्थित चमत्कारिक मंदिर की बारे में जहाँ की मूर्ति दिन में तीन बार रूप बदलती हैं।इस मंदिर के साथ एक और बात जुडी हुई है, असल में लोगो का मानना है यह देवी माँ का मंदिर दरअसल हटाया गया था और 16 जून को शाम छह बजे धारी देवी की मूर्ति को हटाया गया और रात्रि आठ बजे अचानक आए सैलाब ने मौत का तांडव रचा और सबकुछ तबाह कर दिया जबकि दो घंटे पूर्व मौसम सामान्य था। यहीं वजह थी कि अचानक एक ग्लेशियर फटा और उसी दौरान गौरीकुंड और रामबाड़ा के बीच एक बादल भी फट गया। केदारनाथ के आसपास का सबकुछ तबाह हो गया सिर्फ केदारनाथ के मंदिर को छोड़कर।

इसे दक्षिणी काली माता भी कहते हैं। मान्यता अनुसार उत्तराखंड में चारों धाम की रक्षा करती है ये देवी। इस देवी को पहाड़ों और तीर्थयात्रियों की रक्षक देवी माना जाता है। महा विकराल इस काली देवी की मूर्ति स्थापना और मंदिर निर्माण की भी रोचक कहानी है। मूर्ति जाग्रत और साक्षात है।मां धारी देवी के मंदिर में रोजाना चमत्कार होता है।मान्यता है कि कालीमठ मंदिर से ही मूर्ति का सिर वाला भाग बाढ़ से अलकनंदा नदी में बहकर धारी गांव नामक स्थान पर आ गया। गांव की धुनार जाति व स्थानीय ग्रामीणों ने मिलकर सिर वाले भाग को समीपवर्ती ऊंची चट्टान पर स्थापित किया।मंदिर में दर्शन करने वाले लोगों का कहना है कि यहां मां काली प्रतिदिन तीन रूप बदलती है। वह प्रात:काल कन्या, दोपहर में युवती व शाम को वृद्धा का रूप धारण करती हैं।

अद्भुत मंदिर जहाँ देवी माँ दिन में बदलती है ३ रूप..!!!जरूर पढ़े..!!!!

हर साल चैत्र व शारदीय नवरात्र में हजारों श्रद्धालु अपनी मनौतियों के लिए मंदिर में आते हैं। इसके अलावा चारधाम यात्रा के दौरान भी हर रोज सैकड़ों श्रद्धालु मंदिर पहुंचते हैं और देवी माँ का चमत्कार देख अभिभूत हो जाते है ।

॥ जय माँ धारी देवी ॥

182 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.