भगवान को चढ़ाये उनके पसंद का भोग; हो जाएंगे तुरंत प्रसन्न,देंगे अनंत आशीर्वाद…!!!

धार्मिक कथा ( Religious Story)

हमारे शास्त्रों में देवी-देवताओं(Devi-Devta) को भोग लगाने का नियम बताया गया है। ऐसा कहा जाता है भगवान (Bhagwaan) हमारे घर(Ghar) में निवास करते है तथा हम उनका घर(Ghar) के सदस्य के रूप में ख्याल रखते है और खाने से लेकर उनके सोने का उनके आराम करने का ध्यान रखते है।

देवी-देवताओं को भोग
देवी-देवताओं को भोग

ध्यान रखें भगवान को भोग लगते वक़्त इस मंत्र(Mantra) का उच्चारण करें:

त्वदीयं वस्तु गोविन्द तुभ्यमेव समर्पये ।

गृहाण सम्मुखो भूत्वा प्रसीद परमेश्वर ।।

भोग(Bhog)

आज हम आपको बता रहें है किस देव-देवता को कोन-सा भोग पसंद है:

  • प्रभु नारायण

-भगवान नारायण(Narayan) को खीर या सूजी के हलवे का नैवेद्य बहुत पसंद है,खीर कई प्रकार से बनाई जाती है।

भगवान नारायण को खीर या सूजी के हलवे का नैवेद्य बहुत पसंद है
भगवान नारायण को खीर या सूजी के हलवे का नैवेद्य बहुत पसंद है

-याद रखे भगवान् विष्णु(Vishnu) के नैवेद्य में तुलसी(Tulsi) जरूर डालें।

-कहते है प्रति रविवार और गुरुवार को विष्णु-लक्ष्मी(Vishnu Lakshmi) को भोग लगाने से दोनों प्रसन्न होते हैं ।

-हमारे घर में किसी भी प्रकार से धन और समृद्धि की कमी नहीं होती है।

  • महादेव

शिव(Shiv) को भांग और पंचामृत का नैवेद्य पसंद है।

शिवजी को रेवड़ी, चिरौंजी और मिश्री भी अर्पित की जाती है।

भगवान नारायण को खीर या सूजी के हलवे का नैवेद्य बहुत पसंद है
भगवान के पसंद का भोग
  • राम भक्त हनुमान

हनुमानजी(Hanuman) को हलुआ, पंच मेवा, गुड़-चना, गुड़ के लड्डू , डंठल वाला पान,इमरती और केसर- भात बहुत पसंद हैं।

कोई व्यक्ति 5 मंगलवार(Mangalwar) कर हनुमानजी(Hanuman) को चोला चढ़ाकर यह नैवेद्य लगाता है, तो उसके हर तरह के संकटों का समाधान होता है।

भारतीय पौराणिक कथा (Indian Mythological Story)

  • मां लक्ष्मी

लक्ष्मीजी(Lakshmi) को धन की देवी माना गया है।

-माँ लक्ष्मी(Lakshmi) को सफेद और पीले रंग के मिष्ठान्न, केसर-भात बहुत पसंद हैं।

माँ लक्ष्मी को केसर-भात बहुत पसंद हैं
माँ लक्ष्मी को केसर-भात बहुत पसंद हैं

-कम से कम 11 शुक्रवार(Shukrawar) को जो कोई भी व्यक्ति एक लाल फूल अर्पित कर लक्ष्मीजी के मंदिर(Mandir) में उन्हें यह भोग लगाता है तो उसके घर में हर तरह की शांति और समृद्धि रहती है ।

-किसी भी प्रकार से धन की कमी नहीं रहती।

  • दुर्गा माता

-माता दुर्गा(Durga) को शक्ति की देवी माना गया है।

-दुर्गाजी को खीर, मालपुए, मीठा हलुआ, पूरणपोळी, केले, नारियल और मिष्ठान्न बहुत पसंद हैं।

-बुधवार(Budhwar) और शुक्रवार(Shukrawar) के दिन दुर्गा मां को विशेषकर नेवैद्या अर्पित किया जाता है।

-माताजी के प्रसन्न होने पर वह सभी तरह के संकट को दूर कर व्यक्ति को संतान(Santaan) और धन(Dhan) सुख देती है।

माता सरस्वती को पंचामृत पसंद है
माता सरस्वती को पंचामृत पसंद है
  • माँ सरस्वती

-माता सरस्वती(Saraswati) को ज्ञान की देवी माना गया है।

-माता सरस्वती को दूध, पंचामृत, दही, मक्खन, सफेद तिल के लड्डू तथा धान का लावा पसंद है।

  • भगवान गणेश

-गणेशजी(Ganesh) को मोदक या लड्डू का नैवेद्य अच्छा लगता है।

-मोदक के अलावा गणेशजी को मोतीचूर के लड्डू भी पसंद हैं।

-शुद्ध घी से बने बेसन के लड्डू भी पसंद हैं।

-इसके अलावा आप उन्हें बूंदी के लड्डू भी अर्पित कर सकते हैं।

नारियल(Nariyal), तिल और सूजी के लड्डू भी उनको अर्पित किए जाते हैं।

श्रीकृष्ण को माखन और मिश्री बहुत पसंद है
श्रीकृष्ण को माखन और मिश्री बहुत पसंद है
  • भगवान श्री राम

-भगवान श्रीरामजी(Ram) को केसर भात, खीर, धनिए का भोग आदि पसंद हैं।

-इसके अलावा उनको कलाकंद, बर्फी, गुलाब जामुन का भोग भी प्रिय है।

  • श्रीकृष्ण

-भगवान श्रीकृष्ण(Krishna) को माखन और मिश्री का नैवेद्य बहुत पसंद है।

॥ जय श्री कृष्ण ॥

4 Comments