जानिए कैसे एक हिरणी के गर्भ से हुआ महात्मा काश्यप के पुत्र ऋषि श्रृंग का जन्म;जरूर पढ़ें…!!!

भारतीय पौराणिक कथा (Indian Mythological Story)

-आज हम आपको एक ऐसे ऋषि(Rishi) के बारे में बता रहे हैं जिनका जन्म कैसे हुआ यह किसी रहस्य से कम नहीं है।

-बहुत ही अद्भुत तरीके से हुआ था ऋषि श्रृंग(Rishi Shrang) का जन्म ।

-बता दें उनके पिता महात्मा कश्यप(Kashyap) को रामायण (Ramayan)के इतिहास में बहुत ही बड़े तपस्वी ऋषी(Rishi) के रूप में बताया गया है ।

-उन्होंने कभी भी किसी स्त्री को स्पर्श तक नहीं किया।

ऋषि श्रृंग
ऋषि श्रृंग

-ऐसे में ऋषि श्रृंग(Rishi Shrang) का जन्म कैसे हुआ यह एक रहस्य है ।

-वैसे तो ऋषि श्रृंग(Rishi Shrang) के जन्म को लेकर अलग-अलग कथाएं है जिनमें से एक आज हम आपको बता रहें है ।

-तो आइए आज हम आपको इसी रहस्य के बारे में बताते हैं:

ऋषि श्रृंग के जन्म की कथा

-ऋषि श्रृंग(Rishi Shrang) महात्मा कश्यप के पुत्र थे, महात्मा कश्यप बहुत ही प्रतापी ऋषि थे।

-ऐसा कहा जाता है उनका वीर्य अमोघ था और तपस्या के कारण अन्तःकरण शुद्ध हो गया था।

-एक बार वे सरोवर में स्नान करने गए, वहां उर्वशी(Urvashi) अप्सरा को देखकर जल में ही उनका वीर्य स्खलित हो गया।

ऋषि श्रृंग के जन्म की कथा
ऋषि श्रृंग के जन्म की कथा

-उस वीर्य को जल के साथ एक हिरणी(Deer) ने पी लिया, जिससे उसे गर्भ रह गया।

-वास्तव में वह हिरणी(Deer) न होते हुए एक देवकन्या थी।

हिंदी धार्मिक कहानियाँ (Religious Stories in Hindi )

-किसी कारण से ब्रह्माजी(Brahma) ने उन्हें श्राप दिया था कि आप हिरण(Deer) जाति में जन्म लेगी और तब आपको एक मुनि पुत्र को जन्म देना होगा, तब ही आप इस श्राप से मुक्त हो जाएगी।

-इसी श्राप के कारण महामुनि ऋषि श्रृंग(Rishi Shrang) उस मृगी के पुत्र हुए, वे बड़े तपोनिष्ठ थे।

-उनके सिर पर एक सींग था, इसीलिए उनका नाम श्रृंग पड़ा।

-बताया जाता है उनका विवाह अंगदेश के राजा रोमपाद की दत्तक पुत्री शान्ता(Shanta) से सम्पन्न हुआ ।

ऋषि श्रृंग देवी शांता के साथ
ऋषि श्रृंग देवी शांता के साथ

-शान्ता वास्तव में दशरथ की पुत्री थीं।

-राजा दशरथ(Dashrath) ने पुत्र प्राप्ति के लिए पुत्रेष्ठि यज्ञ करवाया था।

-इस यज्ञ को मुख्य रूप से ऋषि श्रृंग(Rishi Shrang) ने संपन्न किया था।

 

3 Comments